Cyclone Michaung : आंध्र प्रदेश से आज टकराएगा साइक्लोन मिचौंग, क्या है चक्रवात मिचौंग; कैसे होता है चक्रवातों का नामकरण?

0
60

Cyclone Michaung : चेन्नई में मिचौंग तूफान भारी तबाही मचाने के बाद आज यानी मंगलवार को आंध्र प्रदेश और उत्तरी तमिलनाडु के तटों से टकरा सकता है। मौसम विभाग अनुमान लगाया है कि 90-110 किमी प्रति घंटे की तेजी से हवाएं चल सकती हैं। इसके साथ ही मौसम विभाग ने अगले तीन दिनों तक तेज आंधी और बारिश की संभावना भी जताई है। बता दें,चेन्नई में मिचौंग तूफान में 8 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, 200 से अधिक ट्रेनों को रद्द भी करना पड़ा है।

क्या है चक्रवात मिचौंग ?

मिचौंग नाम म्यांमार द्वारा प्रस्तावित किया गया था, जो लचीलेपन और दृढ़ता को दर्शाता है। यह चक्रवात इस साल हिंद महासागर में बनने वाला छठा और बंगाल की खाड़ी में बनने वाला चौथा चक्रवात है। भारतीय मौसम विभाग ने भविष्यवाणी की थी कि 3 दिसंबर को दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी में चक्रवात मिचौंग आने की आशंका है।

चक्रवात के नाम कैसे रखे जाते हैं?

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्ल्यूएमओ) और संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग (ईएससीएपी) के सदस्य देश प्रत्येक उष्णकटिबंधीय चक्रवात का नामकरण करते हैं। चक्रवातों के नाम क्षेत्रीय नियमों पर निर्भर करते हैं। अटलांटिक और दक्षिणी गोलार्ध (हिंद महासागर और दक्षिण प्रशांत) में, उष्णकटिबंधीय चक्रवातों को वर्णमाला क्रम में नाम मिलते हैं और महिलाओं और पुरुषों वाले नाम वैकल्पिक होते हैं। वहीं उत्तरी हिंद महासागर में, देशों ने उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के नामकरण के लिए एक नई विधि का उपयोग करना शुरू कर दिया है; नाम देश के अनुसार वर्णानुक्रम में होते हैं और लिंग-तटस्थ हैं।

बता दें, मौसम विभाग ने दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी में चक्रवात मिचौंग के बनने की भविष्यवाणी की थी। जिसके बाद 4 दिसंबर को तमिलनाडु के तटीय जिलों में भारी तबाही हुई। मौसम विभाग ने तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के लिए ‘ऑरेंज’ अलर्ट जारी किया है क्योंकि चक्रवात मिचौंग के 5 दिसंबर को आंध्र प्रदेश में एंट्री करने वाला है।

चेन्नई में चक्रवात

चेन्नई से लगभग 100 किमी पूर्व-उत्तरपूर्व में चक्रवात मिचौंग के एक गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की भविष्यवाणी की गई। चक्रवात मिचौंग उत्तरी तटीय तमिलनाडु, पुदुचेरी, तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा, तेलंगाना और ओडिशा जैसे क्षेत्रों में लैंडफॉल की ओर बढ़ रहा है।

तटीय क्षेत्रों में चक्रवात मिचौंग

मिचौंग इस वर्ष बंगाल की खाड़ी में चौथा चक्रवात है। चक्रवात मिचौंग के 5 दिसंबर को तटीय आंध्र में आने की उम्मीद है। 5 दिसंबर को उत्तरी तमिलनाडु तट पर भी इसके आने की उम्मीद है। चक्रवात से तमिलनाडु और आंध्र में भारी बारिश होने की उम्मीद है।

चक्रवात के कारण 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की आशंका है। तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के कई जिलों के लिए मंगलवार के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया, जिसमें कहा गया है कि यहां अत्यधिक भारी बारिश हो सकती है।

चक्रवात क्या है?

चक्रवात में एक कम दबाव वाला केंद्र होता है जिसके चारों ओर हवा घूमती है। इन्हें दो मुख्य प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है: अतिरिक्त उष्णकटिबंधीय चक्रवात और उष्णकटिबंधीय चक्रवात। मिचौंग उष्णकटिबंधीय चक्रवात है। उष्णकटिबंधीय चक्रवात, सबसे विनाशकारी होते हैं। ये मकर और कर्क रेखा के बीच के क्षेत्रों में बनते हैं। ये चक्रवात तब बनते हैं जब तूफान सरकुलेशन सेंटर के पास तेज हो जाता है। सबसे तेज हवाएं और वर्षा सेंटर के करीब होती हैं। तूफान का केंद्र गर्म हो जाता है और चक्रवात अपनी अधिकांश ऊर्जा “लेटेंट हीट” से प्राप्त करता है । लेटेंट हीट तब निकलती है जब वाष्प पानी में बदल जाता है।

यह भी पढ़ें:

AQI Update: फिर ‘बहुत खराब’ श्रेणी में दिल्ली की हवा, 400 के करीब दर्ज हुआ AQI, देश में सबसे प्रदूषित सिटी बेगूसराय

क्या होती है पराली, इसे जलाने से पर्यावरण को कैसे पहुंचता है नुकसान? यहां जानिए हर सवाल का जवाब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here