Weather Update: दिल्‍ली में इस सीजन का सबसे सर्द दिन, पारा लुढ़कर 1 डिग्री पहुंचा

Weather Update: राजधानी में सोमवार को न्यूनतम तापमान में करीब 9 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई।बीते शनिवार को यह 4.7 डिग्री सेल्सियस था।वहीं रविवार को 10.2 डिग्री सेल्सियस था।

0
41
Weather Update: top news hindi
Weather Update:

Weather Update: सप्‍ताह की शुरुआत के साथ ही सर्दी ने मुश्किलें भी बढ़ा दी हैं।मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार दिल्‍ली में तापमान 1.4 डिग्री सेल्सियस लुढ़क गया।जोकि सर्दी के मौसम में अब तक का सबसे ठंडा दिन है।बात अगर देश के अलग राज्‍यों की करें तो पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, उत्‍तर प्रदेश और राजस्‍थान के कुछ हिस्‍सों में भी शीतलहर का प्रकोप जारी है।

आईएमडी के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव में आगामी 18 से 20 जनवरी तक न्यूनतम तापमान में करीब 3 से 5 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होगी।आईएमडी ने पहले दिल्ली में 17-18 जनवरी तक शीतलहर के लिए ओरेंज चेतावनी जारी की थी।

Weather Update: top news today
Weather Update:

Weather Update: तापमान में 9 डिग्री की गिरावट

Weather Update: राजधानी में सोमवार को न्यूनतम तापमान में करीब 9 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई।बीते शनिवार को यह 4.7 डिग्री सेल्सियस था।वहीं रविवार को 10.2 डिग्री सेल्सियस था। वहीं 8 जनवरी को शहर का न्यूनतम तापमान 1.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।जो आज से पहले इस मौसम का सबसे कम तापमान था।

अगले कुछ दिनों में उत्तर पश्चिम और मध्य भारत के कई हिस्सों में न्यूनतम तापमान में लगभग 2 डिग्री सेल्सियस की।ऐसे में मौसम गिरावट आने की पूरी उम्मीद है। उम्‍मीद लगाई जा रही है कि गुरुवार से तापमान में 3 से 5 डिग्री सेल्सियस की मामूली वृद्धि देखने को मिलेगी।

Weather Update: 5 से 9 जनवरी तक भीषण शीतलहर चली

Weather Update: दिल्ली में सोमवार सुबह शीतलहर बनी रही।सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 1.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।जोकि 1 जनवरी 2021 के बाद से इस महीने सबसे कम तापमान है।लोधी रोड पर स्थित मौसम केंद्र में न्यूनतम तापमान 1.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।लोधी रोड पर ही भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) का मुख्यालय भी है।
मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में 5 से 9 जनवरी तक भीषण शीतलहर चली जोकि एक दशक में इस महीने में प्रचंड शीतलहर थी।वहीं इस महीने 50 घंटे तक घना कोहरा भी दर्ज किया गया। जोकि वर्ष 2019 के बाद से सबसे अधिक है।

मालूम हो कि मैदानी हिस्सों में शीतलहर की घोषणा उस वक्‍त की जाती है, जब न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है। दूसरी तरफ भीषण शीतलहर की घोषणा तब की जाती है, जब न्यूनतम तापमान 2 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है।

संबंधित खबरें