Arvind Kejriwal को झटका, वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए इलाज की याचिका कोर्ट ने की खारिज

0
10

तिहाड़ जेल में बंद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सोमवार को कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए केजरीवाल ने मेडिकल कंसल्टेशन के लिए दिल्ली के राउज एवेन्यू कोर्ट में याचिका लगाई थी, जो खारिज हो गई है। कोर्ट ने केजरीवाल के लिए एक मेडिकल बोर्ड बनाने का आदेश दिया है। 1 अप्रैल से केजरीवाल तिहाड़ में हैं और 23 अप्रैल को उनकी न्यायिक हिरासत पर फिर से सुनवाई होनी है। आपको बता दें अरविंद केजरीवाल को टाइप-2 डायबिटीज है। शराब घोटाला मामले में उन्हें 21 मार्च को गिरफ्तार किया गया था। 18 अप्रैल को केजरीवाल के वकील विवेक जैन ने ट्रायल कोर्ट में एक याचिका दाखिल कर केजरीवाल के डॉक्टर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मेडिकल कंसल्टेशन लेने की मांग की थी। उन्होंने तर्क दिया था कि केजरीवाल टाइप-2 डायबिटीज के मरीज हैं और उनका ब्लड शुगर लेवल फ्लक्चुऐट होता रहता है।

इसके जवाब में ED ने राउज एवेन्यू कोर्ट को बताया कि केजरीवाल तिहाड़ जेल में जानबूझकर मीठा खा रहे हैं। केजरीवाल के घर से ऐसा ही खाना आ रहा है, जिसमें शुगर और कॉर्ब्स की मात्रा ज्यादा रहती है। ताकि इससे उनका शुगर लेवल बढ़ जाए और उन्हें मेडिकल के आधार पर जमानत मिल जाए। अदालत ने अपने आदेश में कहा कि AIIMS के डायरेक्टर केजरीवाल के लिए एक मेडिकल बोर्ड बनाएंगे। उन्हें इंसुलिन दिया जाएगा या नहीं।

आपको बता दें अरविंद केजरीवाल से जुड़ी 2 याचिकाओं पर सोमवार को हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। याचिकाकर्ता के वकील ने कहा- “मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी से पूरी सरकार रुक गई है। वे सरकार के मुखिया हैं। इससे पहले अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को तिहाड़ जेल सुपरिंटेंडेंट के नाम एक चिट्ठी लिखी। सूत्रों के मुताबिक, इस चिट्‌ठी में केजरीवाल ने लिखा- “मैंने अखबार में तिहाड़ जेल प्रशासन का बयान पढ़ा, जिसे पढ़कर बहुत दुख हुआ। तिहाड़ के दोनों बयान झूठे हैं। मैं रोज इन्सुलिन मांग रहा हूं। उन्हें बताया भी कि दिन में 3 बार शुगर बहुत हाई हो रही है। AIIMS के डॉक्टरों ने मुझसे कभी भी नहीं कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है। तिहाड़ जेल प्रशासन राजनीतिक दवाब में झूठ बोल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here