RSS प्रमुख से मुलाकात के बाद बोले चीफ इमाम इलियासी – राष्ट्रपिता और राष्ट्रऋषि हैं मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत की मुस्लिम बुद्धिजीवियों और नेताओं से मुलाकात लंबे समय से चल रही है। संघ नेताओं के अनुसार, भागवत समय-समय पर समाज के विभिन्न तबकों के प्रतिनिधियों और प्रमुख लोगों से मिलते रहते हैं। इन मुलाकातों को भी इसी संदर्भ में देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भागवत आज मस्जिद नहीं गए, बल्कि मस्जिद प्रांगण में स्थित ऑल इंडिया इमाम एसोसिएशन के पदाधिकारियों से मिले।

0
42
Mohan Bhagwat
Mohan Bhagwat

Mohan Bhagwat: आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने बीते गुरुवार को ऑल इंडिया मुस्लिम इमाम ऑर्गेनाइजेशन के प्रमुख इमाम उमर अहमद इलियासी समेत अन्य मुस्लिम नेताओं से मुलाकात की। ये मुलाकात दिल्ली के कस्तूरबा गांधी मार्ग स्थित मस्जिद में हुई। ये बैठक करीब एक घंटे तक चली। बता दें कि आरएसएस ने हाल ही में मुसलमानों से संपर्क बढ़ाया है और समुदाय नेताओं के साथ कई बैठकें भी की हैं।

अखिल भारतीय इमाम एसोसिएशन के प्रमुख डॉ. इमाम उमर अहमद इलियासी ने बीते गुरुवार को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत की जमकर तारीफ की। डॉ. इलियासी ने मोहन भागवत को ‘राष्ट्रपिता’ और राष्ट्र ऋषि कहकर संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मोहन भागवत आज मेरे निमंत्रण पर यहां आए हैं। मोहन भागवत ‘राष्ट्र पिता’ और ‘राष्ट्र-ऋषि’ हैं। उन्होंने कहा कि भागवत की यात्रा से देश में एक अच्छा संदेश जाएगा। भगवान की पूजा करने के हमारे तरीके अलग हैं लेकिन सबसे बड़ा धर्म मानवता है। इलियासी ने आगे कहा कि हमारा मानना है कि देश सबसे पहले आता है।

मुस्लिम नेताओं से मिलने पहुंचे संघ प्रमुख Mohan Bhagwat, जानें क्या हैं इस मुलाकात के मायने?
मुस्लिम नेताओं से मिलने पहुंचे संघ प्रमुख Mohan Bhagwat

इन बुद्धजीवियों ने Mohan Bhagwat से मुलाकात की

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मिलने वालों में पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी, पूर्व उपराज्यपाल नजीब जंग, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति जमीरुद्दीन शाह और कारोबारी सईद शेरवानी शामिल थे।

मदरसे में बच्चों से मिले Mohan Bhagwat

वहीं, मुस्लिम नेताओं से मुलाकात के बाद RSS प्रमुख मोहन भागवत आजाद मार्केट के मदरसे पहुंचे। यहां उन्होंने मदरसे के बच्चों से भी मुलाकात की। उन्होंने मदरसे के बच्चों से पूछा कि वे क्या पढ़ते हैं? भागवत ने बच्चों से काफी देर तक बातचीत की।

दिल्ली के मस्जिद पहुंचे संघ प्रमुख Mohan Bhagwat, मुस्लिम बुद्धिजिवियों और इमामों से की मुलाकात
Mohan Bhagwat मुस्लिम बुद्धिजिवियों और इमामों से की मुलाकात

ताकत से लड़ेंगे तो बांटने वाले कमजोर होंगे

मदरसे में मुलाकात के बाद आरएसएस के इंद्रेश कुमार ने कहा कि ये एक प्रयत्न है। 70 साल से तो लड़वा ही रहे हैं। जोड़ने वाले लोग ताकत से लड़ेंगे तो बांटने वाले कमजोर हो जाएंगे। हिंदू-मुस्लिम करना गलत है। उन्होंने कहा कि मोहन भागवत मुस्लिमों से पहले मुंबई में मिले, फिर 22 अगस्त को बुद्धिजीवियों से मिले और आज का पेंडिंग इंविटेशन इलियासी के यहां से था जो कि पूरा हो चुका है।

उन्होंने कहा कि इलियासी का हिंदूराव के पास एक मदरसा है। वहां भी हम गए। बच्चों से पूछा क्या पढ़ते हो, क्या बनोगे? बच्चों ने कहा कि डॉक्टर, इंजीनियर बनना चाहते है। इस पर भागवत ने कहा कि सिर्फ धर्म की पढ़ाई करके कैसे बनोगे? मॉडर्न एजुकेशन देने को लेकर भी इलियासी काम कर रहे हैं। इलियासी ने कहा कि वो संस्कृत भी पढ़ाएंगे क्योंकि उन्हें ज्ञान है। इतना ही नहीं, उन्होंने गीता को लेकर भी कहा कि हम गीता का भी ज्ञान बच्चों को देंगे।

Mohan Bhagwat
Mohan Bhagwat

Mohan Bhagwat ने बच्चों से जय हिंद के लगवाए नारे

बता दें कि मोहन भागवत ने बच्चों से जय हिंद के नारे भी लगवाए। इलियासी ने मदरसों के सर्वे को लेकर कहा कि जो सर्वे हो रहा है वो ठीक है। मदरसों का सर्वे हो, आधुनिक तालीम दी जाए। 15 अगस्त, 26 जनवरी का कार्यक्रम देश की आन-बान शान बन जाए। फतवों की दुनिया को अब मुस्लिम रिजेक्ट कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ओवैसी, PFI को मुस्लिम समाज खारिज कर रहा है। पीएफआई जैसे संगठनों पर कार्रवाई उचित है। आरएसएस देशभक्त संगठन है और समाज को जोड़ने और जन सेवा का काम करता है न कि तोड़ने का काम करता है।

Mohan Bhagwat
Mohan Bhagwat समय-समय पर बुद्धिजीवियों से करते हैं मुलाकात

Mohan Bhagwat समय-समय पर बुद्धिजीवियों से करते हैं मुलाकात

बता दें कि कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत की मुस्लिम बुद्धिजीवियों और नेताओं से मुलाकात लंबे समय से चल रही है। संघ नेताओं के अनुसार, भागवत समय-समय पर समाज के विभिन्न प्रतिनिधियों और प्रमुख लोगों से मिलते रहते हैं। इन मुलाकातों को भी इसी संदर्भ में देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भागवत आज मस्जिद नहीं गए, बल्कि मस्जिद प्रांगण में स्थित ऑल इंडिया इमाम एसोसिएशन के पदाधिकारियों से मिले। मुसलमानों में फैली गलत धारणाओं को दूर करना चाहते हैं।

दरअसल, चर्चा है कि संघ प्रमुख मोहन भागवत आने वाले दिनों में कश्मीर के कुछ मुस्लिम नेताओं से भी मुलाकात कर सकते हैं। इसे कश्मीर में चुनावी राजनीति की दोबारा शुरुआत के बाद घाटी में शांति बनाए रखने की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण माना जा रहा है। ये नेता कश्मीरी अलगाववादी नेताओं को घाटी में दोबारा सक्रिय न होने और कश्मीरी युवाओं को नए भारत से जोड़ने में अहम भूमिका निभा सकते हैं।

संबंधित खबरें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here