केदारनाथ के पास बर्फ का पहाड़ खिसका, लोगों को याद आया 2013 का प्रलय

0
129
Uttarakhand News: केदारनाथ के पास बर्फ का पहाड़ खिसका, लोगों को याद आया 2013 का प्रलय
Uttarakhand News: केदारनाथ के पास बर्फ का पहाड़ खिसका, लोगों को याद आया 2013 का प्रलय

Uttarakhand News: उत्तराखंड में केदारनाथ के पास बर्फ का पहाड़ खिसकने की घटना सामने आई है। यह घटना केदारनाथ धाम से तीन किलोमीटर ऊपर बर्फ का पहाड़ खिसकने से हुई है। शुरुआती तौर पर बताया गया कि पहाड़ खिसकने से मंदिर को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। श्रीबद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने बताया कि हिमालय क्षेत्र में आज सुबह हिमस्खलन हुआ, लेकिन केदारनाथ मंदिर को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। केदारनाथ मंदिर के पास हुई इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर अब तेजी से वायरल हो रहा है। ये भयानक दृश्य देखकर लोगों को साल 2013 में हुई आपदा की याद आ गई।

Uttarakhand News: केदारनाथ के पास बर्फ का पहाड़ खिसका, लोगों को याद आया 2013 का प्रलय
Uttarakhand News:

Uttarakhand News: पलक झपकते ही ढह गया बर्फ का पहाड़

केदारनाथ धाम के पास बर्फ के पहाड़ खिसकने का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे बर्फ की सफेद चादर सबकुछ खुद में समा लेती है। बर्फ का पहाड़ देखते ही देखते पूरी तरह से ढह जाता है। चारों तरफ देखने पर बस बर्फ ही बर्फ नजर आ रही है। हालांकि, इस हादसे में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

Uttarakhand News: कुछ दिन पहले हुई थी लैंडस्लाइड

बताते चलें कि केदारनाथ घाटी में बारिश का सिलासिला लगातार जारी है। 23 सितंबर को भी मंदाकिनी नदी के उद्गम स्थल चोराबाड़ी से तीन किमी ऊपर हिमालय क्षेत्र में भारी बर्फबारी के चलते ग्लेशियर टूटा था। इस ग्लेशियर पर ताजी बर्फ अधिक जम गई थी जिससे यह टूट गया था। हालांकि, उससे भी आसपास के क्षेत्र में किसी नुकसान नहीं हुआ था।

Uttarakhand News: केदारनाथ के पास बर्फ का पहाड़ खिसका, लोगों को याद आया 2013 का प्रलय
Uttarakhand News:

इसके अलावा 21 सितंबर को केदारनाथ हाइवे पर भूस्खलन हुआ था। गनीमत ये रही थी कि इसकी चपेट में हाइवे पर चल रहा कोई भी वाहन नहीं आया। बारिश के कारण चारधाम यात्रा पर काफी असर पड़ रहा है। बुधवार शाम केदारनाथ हाइवे पर फाटा के निकट पहाड़ी से जोरदार भूस्खलन हुआ। एक साथ कई टन मलबा हाइवे पर गिर गया। पहाड़ी से मलबा गिरता देख वाहनों के चालक पीछे ही रुक गए। हालांकि, इसमें एक बस को नुकसान पहुंचा था।

यह भी पढ़ें: