Mangaluru Auto Rickshaw Blast: शारिक की हरकतें आतंकी संगठन से प्रेरित, हो सकती है NIA जांच!

कर्नाटक के डीजीपी प्रवीण सूद ने ब्लास्ट को आतंकी वारदात बताया है।

0
50
Auto Rickshaw Blast

Auto Rickshaw Blast: शनिवार देर शाम को मंगलुरु में चलते ऑटो में एक ब्लास्ट हुआ था। उसमें ऑटो चालक समेत यात्री जख्मी हो गए थे। उन्हें तत्काल नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मामले में पुलिस ने आरोपी को पकड़ लिया है। कर्नाटक के डीजीपी प्रवीण सूद ने ब्लास्ट को आतंकी वारदात बताया है। वहीं, एएनआई सूत्रों से जानकारी मिली कि इस मामले को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को सौंपा जा सकता है।

Auto Rickshaw Blast: ब्लास्ट मामले की जानकारी देते एडीजीपी आलोक कुमार
Auto Rickshaw Blast: ब्लास्ट मामले की जानकारी देते एडीजीपी आलोक कुमार

Auto Rickshaw Blast: आरोपी शारिक के घर की पुलिस ने की जांच

दरअसल, मंगलुरु में शनिवार को चलते ऑटो में कुकर ब्लास्ट हुआ था, जिसमें कम तीव्रता वाला विस्फोट हुआ था। घटना में आटो चालक पुरुषोत्तम पुजारी और यात्री शारिक जख्मी हुए थे। मामले में शारिक को आरोपी बनाया गया है। उसे मंगलुरु के फादर मुलर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं, पुलिस ने मामले में आरोपी शारिक के घर की भी तलाशी ली है। तलाशी के दौरान पुलिस के हाथों कई सामान लगे हैं, जिन्हें पुलिस टीम ने बरामद कर ली है। ब्लास्ट को कर्नाटक के डीजीपी ने अचानक होने वाली घटना नहीं बल्कि आतंकी वारदात बताया है। ब्लास्ट के बाद से मंगलुरु की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है।

Auto Rickshaw Blast: शारिक के घर से बरामद सामान
Auto Rickshaw Blast: शारिक के घर से बरामद सामान

UAPA के तहत दो मामले हैं आरोपी पर दर्ज- एडीजीपी
वहीं, ब्लास्ट और आरोपी के बारे में एडीजीपी आलोक कुमार ने जानकारी दी है। उन्होंने कहा “19 नवंबर की रात करीब 7:40 बजे मंगलुरु शहर के बाहर एक कम तीव्रता वाला विस्फोट हुआ। एक यात्री के पास एक बैग था जिसमें कुकर बम था। इसमें विस्फोट हो गया, जिससे यात्री के साथ-साथ ऑटो चालक भी झुलस गया। ऑटो चालक पुरुषोत्तम पुजारी है और यात्री की पहचान शारिक के रूप में हुई है।” उन्होंने बताया कि आरोपी के खिलाफ तीन मामले दर्ज हैं, दो मंगलुरु में और एक शिवमोग्गा में। आरोपी के खिलाफ दो मामलों में UAPA के तहत मामला दर्ज किया गया है और तीसरे मामले में वह वांछित था। आरोपी लंबे समय से फरार चल रहा था।

शारिक की हरकतें आतंकी संगठन से प्रेरित-एडीजीपी
मामले में आलोक कुमार ने बताया “अन्य लिंक भी हैं- कोई सुरेंद्रन है, जिसके नाम से एक सिम कार्ड शारिक (आरोपी) ने लिया था, एक आधार कार्ड अरुण कुमार गवली निवासी संदुर, एक और सिम कार्ड शारिक ने गदग के एक व्यक्ति के नाम से लिया था। हम इन सभी लोगों से पूछताछ करने जा रहे हैं।

पुलिस अधिकारी आलोक कुमार ने कहा कि हम कह सकते हैं कि उसकी हरकतें किसी ऐसे आतंकवादी संगठन से प्रेरित और प्रभावित हैं, जिसकी वैश्विक उपस्थिति है।

यह भी पढ़ेंः

World Television Day 2022: भारत में टेलीविजन का सफर; जानें कब शुरू हुआ देश का सबसे पहला TV चैनल?

Raj Kundra के खिलाफ नई चार्जशीट! पुलिस ने कहा- 5 स्टार होटलों में बनाई अश्लील फिल्में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here