Ankita Bhandari की हत्या के आरोप में पूर्व मंत्री का बेटा गिरफ्तार, जबरदस्ती देह व्यापार में धकेलना चाहता था आरोपी

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि सौरभ भास्कर ने बताया है कि पुलकित आर्य और अंकिता भंडारी में बहस होने लगी। कुछ मिनटों के बाद दोनों में लड़ाई शुरू हो गई। नाराज अंकिता ने आर्य का फोन नदी में फेंक दिया, जिसके बाद पुलकित ने उसे नदी में धकेल दिया।

0
103
APN News Live Updates
APN News Live Updates

Ankita Bhandari Murder Case: उत्तराखंड के एक पूर्व मंत्री के बेटे को 19 वर्षीय होटल रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी की हत्या के मुख्य आरोपी के रूप में गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले वनंतरा रिसॉर्ट के मालिक पुलकित आर्य को शुक्रवार को दो साथियों के साथ रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी को शक्ति बैराज के पास गंगा में फेंकने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

पुलकित आर्य पूर्व मंत्री विनोद आर्य के बेटे और उत्तराखंड ओबीसी कल्याण आयोग के मौजूदा उपाध्यक्ष अंकित आर्य के भाई हैं। पीड़िता उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के श्रीकोट गांव की रहने वाली थी और उसे हाल ही में आर्य के रिसॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट के रूप में नियुक्त किया गया था। वह 19 सितंबर को रिसॉर्ट से लापता हो गई थी। पुलिस ने कहा कि आर्य ने गिरफ्तार होने पर अपना अपराध कबूल कर लिया है।

Ankita Bhandari को क्यों मारा गया था?

जांच में पता चला है कि अंकिता भंडारी को गंगा में फेंकने के बाद, आर्य और उसके दोस्तों ने पुलिस को गुमराह करने और अपने अपराध को छिपाने के लिए एक कहानी गढ़ी। घटना स्थल से लौटने के बाद, आरोपियों ने हमेशा की तरह रिसॉर्ट के कर्मचारियों के साथ ऐसा व्यवहार किया जैसे अंकिता अभी भी जीवित है। उसी रात, अपराधी हरिद्वार के लिए रवाना हो गए। हरिद्वार से, पुलकित आर्य ने अपने रिसॉर्ट में फोन किया और कहा कि अंकिता भंडारी को फोन किया जाए क्योंकि वह उससे बात करना चाहता था, ताकि वह बहाना बनाने की कोशिश कर सके। जब होटल के कर्मचारियों ने उसे बताया कि अंकिता भंडारी कहीं नहीं है, तो उसने ‘पटवारी पुलिस’ से अंकिता के लापता होने की शिकायत की।

download 2022 09 23T192041.252
Ankita Bhandari Murder

पुलकित आर्य के खिलाफ पुलिस के पास पुख्ता सबूत

पीड़िता के परिवार ने शुरू में रिसॉर्ट से सीसीवीटीवी फुटेज खंगालने की कोशिश की, क्योंकि उनका दावा है कि अंकिता ने लापता होने से एक रात पहले रिसॉर्ट में अपने कमरे से अपने सेलफोन पर उनसे बात की थी। हालांकि कैमरे टूटे पाए गए। हालांकि, पुलिस को एक कॉल रिकॉर्डिंग मिली है, शायद अंकिता की हत्या के कुछ घंटे पहले की, जिसमें वह रिसोर्ट के एक कर्मचारी से बात करते हुए रोती हुई सुनाई दे रही है। पुलिस के पास एक सहकर्मी के साथ अंकिता की व्हाट्सएप चैट भी है जिसमें उसने स्पष्ट रूप से कहा है कि पुलकित ने उसे जबरन किस करने की कोशिश की, जिस पर उसने उसे फटकार लगाई। अंकिता ने लिखा, “उन्हें लगता है कि मैं भोली हूं।”

अंकिता: “उसने सोचा मैं बहुत भोली हूं, कुछ नहीं करूंगी।”
रिसॉर्ट कर्मचारी: “क्या किया उसने?”
अंकिता: “किस करने की कोशिश की, मैंने ढंग से सुना दिया”।

पुलिस पर परिवार का दबाव

कई दिनों तक राजस्व पुलिस मामले की जांच करती रही। ऋषिकेश में स्थानीय मीडिया द्वारा बड़े पैमाने पर रिपोर्ट किए जाने के बावजूद, मामला 22 सितंबर को ही नियमित पुलिस को स्थानांतरित कर दिया गया था। मृतक के माता-पिता ने भी राजस्व पुलिस पर दबाव बनाया, यहां तक ​​कि विधायक रेणु बिष्ट के साथ थाने तक मार्च करते हुए आरोप लगाया कि अंकिता की हत्या कर दी गई है।

पुलिस पूछताछ में पता चला कि पुलकित आर्य ने दोस्त अंकित गुप्ता और रिसॉर्ट मैनेजर सौरभ भास्कर के साथ मिलकर 18 सितंबर को अंकिता को बातचीत के लिए बाहर ले जाने का फैसला किया, ताकि उस विवाद को सुलझाया जा सके जो अंकिता के इनकार करने से हुआ था। पुलिस ने कहा कि वे अलग-अलग बाइक से ऋषिकेश के लिए रवाना हुए, अंकिता पुलकित के पीछे बैठी थी। पुलकित, बाद में, एक सुनसान अंधेरे कोने में रुक गया, जहां उसने अंकित गुप्ता के साथ शराब पी और मोमोज खाया।

पुलिस के सामने कबूला जुर्म

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि सौरभ भास्कर ने बताया है कि पुलकित आर्य और अंकिता भंडारी में बहस होने लगी। कुछ मिनटों के बाद दोनों में लड़ाई शुरू हो गई। नाराज अंकिता ने आर्य का फोन नदी में फेंक दिया, जिसके बाद पुलकित ने उसे नदी में धकेल दिया। इस बीच, जैसे ही अंकिता की हत्या की खबर फैली, इलाके के स्थानीय लोगों ने आर्य के रिसॉर्ट के साथ-साथ शक्ति बैराज के बाहर भी विरोध प्रदर्शन किया। अंकिता के शव को खोजने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here