Hate Speech को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, सरकार से मांगा जवाब, जानिए हेट स्पीच और इससे संबधित कानूनों के बारे में

आमतौर पर Hate Speech का मकसद किसी विशेष समूह के प्रति घृणा पैदा करना है, यह समूह एक समुदाय, धर्म या जाति भी हो सकता है. हेट स्पीच का अर्थ हो भी सकता है या नहीं भी हो सकता है, लेकिन इसके हिंसा होने की प्रबल संभावना रहती है.

0
90
Hate Speech को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, सरकार से मांगा जवाब, जानिए हेट स्पीच और इससे संबधित कानूनों के बारे में - APN News
Hate Speech - For representational purpose only Source - Internet

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार 21 सितंबर को हेट स्पीच (Hate Speech) से भरी रिपोर्ट टेलीकास्ट करने ओर चर्चा करने के लिए टीवी चैनलों को कड़ी फटकार लगाई है. न्यायालय ने कहा कि यह समाचार प्रस्तोता (एंकर) की जिम्मेदारी है कि वह किसी को नफरत से भरी भाषा बोलने से रोके. जस्टिस केएम जोसेफ और जस्टिस हृषिकेश रॉय की बेंच ने पूछा कि इस मामले में सरकार मूकदर्शक क्यों बनी हुई है, क्या यह एक छोटा मुद्दा है?

ये भी पढ़े – जानिए Popular Front of India के बारे में जिसके 12 राज्यों के ठिकानों पर एनआईए और ED कर रही है छापेमारी और कैसे बना ये इतना बड़ा संगठन

पिछले दिनों केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने एक कार्यक्रम में कहा था कि, “असली पत्रकारिता तथ्यों को सामने लाने, सच्चाई पेश करने, सभी पक्षों को अपने विचार रखने के लिए मंच देने के बारे में है. मेरी राय में मुख्यधारा की मीडिया के लिए सबसे बड़ा खतरा नए जमाने के डिजिटल प्लेटफॉर्म से नहीं बल्कि खुद मुख्यधारा की मीडिया चैनल से है.”

भारत के विधि आयोग (Law Commission) की 267वीं रिपोर्ट में हेट स्पीच (Hate Speech) को नस्ल, जातीयता, लिंग, यौन, धार्मिक विश्वास आदि के खिलाफ घृणा को बढ़ाने के रूप में देखा गया है.

इस प्रकार हेट स्पीच कोई भी लिखित या मौखिक शब्द, संकेत, किसी व्यक्ति की सुनने या देखने से भय या डराना, या हिंसा के लिये उकसाना आदि को हेट स्पीच माना जा सकता है.

Supreme Court 1 1
Hate Speech

जस्टिस जोसेफ ने मौखिक रूप से कहा कि, ” राजनीतिक दल आएंगे-जाएंगे… लेकिन पूरी तरह से स्वतंत्र प्रेस के बिना कोई भी देश आगे नहीं बढ़ सकता है…” उन्होंने आगे कहा कि “हेट स्पीच ताने-बाने में ही जहर घोल देती है… इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती.”

ये भी पढ़े – Social Media Influencers पर लगाम लगाने की तैयारी, अब किसी ब्रांड का प्रचार करने पर देनी होगी जानकारी, जानिए प्रस्तावित नए नियमों के बारे में

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार “आम भाषा में, “घृणास्पद भाषण” एक समूह या व्यक्ति को जाति, धर्म या लिंग – के आधार पर घृणा करना हेट स्पीच के दायरे में आती है. इससे सामाजिक शांति को खतरा हो सकता है.

अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कानून के तहत, अभद्र भाषा की कोई सार्वभौमिक (Universal) परिभाषा नहीं है क्योंकि अवधारणा अभी भी व्यापक रूप से विवादित है, खासकर राय और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, गैर-भेदभाव और समानता के संबंध में.

ये भी पढ़े – अशोक गहलोत और शशि थरूर लड़ सकते हैं Congress अध्यक्ष पद का चुनाव, जानिए कांग्रेस और BJP में कैसे चुना जाता है अध्यक्ष

क्या है पूरा मामला?

इन दिनों सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस केएम जोसेफ और जस्टिस हृषिकेश रॉय की पीठ 11 रिट याचिकाओं की सुनवाई कर रही है, जिसमें हेट स्पीच को रोकने के लिए निर्देश देने की मांग की गई है. याचिकाओं में सुदर्शन न्यूज टीवी द्वारा प्रसारित “यूपीएससी जिहाद” शो, धर्म संसद की बैठकों में दिए गए भाषण, और सोशल मीडिया के नियमन की मांग करने वाली याचिकाएं भी शामिल है.

सुनवाई के दौरान जस्टिस के.एम. जोसेफ और ऋषिकेश राय की बेंच ने कहा मेनस्ट्रीम मीडिया या सोशल मीडिया चैनल बिना रेगुलेशन के हैं लेकिन अभद्र भाषा से निपटने के लिए एक संस्थागत तंत्र (Institutional Mechanism) की जरूरत है. जस्टिस जोसेफ ने मौखिक टिप्पणी करते हुए कहा कि मुख्य धारा (Mainstream) की मीडिया में एंकर की भूमिका अहम है और अगर कोई भड़काऊ बयान देने की कोशिश करता है तो उसका (एंकर) फर्ज की उसे तुरंत रोके. जस्टिस जोसेफ ने आगे कहा कि, “प्रेस की स्वतंत्रता जरूरी है. हमारा अमेरिका जितना स्वतंत्र प्रेस नहीं है लेकिन हमें लक्ष्मण रेखा का पता होना चाहिए.”

ये भी पढ़े – भारत में माल ढुलाई की लागत को 2030 तक वैश्विक बेंचमार्क पर लाने के लिए National Logistics Policy का शुभारंभ, जानिए इससे क्या होगा फायदा

जनवरी 2021 में तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे ने कहा था कि “टीवी पर नफरत को रोकना कानून और व्यवस्था के लिए उतना ही जरूरी है जितना कि पुलिसकर्मियों को लाठी से लैस करना और हिंसा और दंगों को फैलने से रोकने के लिए बैरिकेड्स लगाना.”

न्यायालय ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता जरूरी है, लेकिन टीवी पर अभद्र भाषा बोलने की आजादी नहीं दी जा सकती है. ऐसा करने वाले यूनाइटेड किंगडम के एक टीवी चैनल पर भारी जुर्माना लगाया गया था.

ये भी पढ़ें – उर्वरक सब्सिडी को कम करने ओर खाद के संतुलित उपयोग को लेकर बनाई जा रही है PM-PRANAM योजना, जानिए पूरी योजना के बारे में

क्या कहता है कानून?

भारतीय दंड संहिता (Indian Penal Code – IPC) में ‘हेट स्पीच’ (Hate Speech) को लेकर कोई भी स्पष्ट परिभाषा नहीं है, इसलिये ब्रिटिश राज में बनी IPC में सुधारों का सुझाव देने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा गठित आपराधिक कानूनों पर सुधार समिति (Committee for Reforms in Criminal Law) प्रयास कर रही है.

ये भी पढ़े – दिल्ली में प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए खेतों में पूसा Bio-Decomposer छिड़कने की तैयारी, जानिए इससे कितना होगा असर

हेट स्पीच?

आमतौर पर हेट स्पीच (Hate Speech) का मकसद किसी विशेष समूह के प्रति घृणा पैदा करना है, यह समूह एक समुदाय, धर्म या जाति भी हो सकता है. हेट स्पीच का अर्थ हो भी सकता है या नहीं भी हो सकता है, लेकिन इसके हिंसा होने की प्रबल संभावना रहती है.

पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो द्वारा वर्ष 2021 में साइबर उत्पीड़न के मामलों पर जांच एजेंसियों के लिये एक मैनुअल प्रकाशित किया है, जिसमें हेट स्पीच के बारे में लिखा है कि वो भाषा “जो किसी व्यक्ति की पहचान और अन्य लक्षणों जैसे- यौन, विकलांगता, धर्म आदि के आधार पर उसे बदनाम, अपमान, धमकी या लक्षित करती है” हेट स्पीच के दायरे में आती है.

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के अनुसार वर्ष 2014 में हेट स्पीच को लेकर केवल 323 मामले दर्ज किये गए थे जो वर्ष 2020 में यह बढ़कर 1,804 तक पहुंच गये.

ये भी पढ़ें – Crime In India | 2021 में भारत में दर्ज किए गए 60 लाख से अधिक केस, जानिए अपराध के बारे में क्या बताती है NCRB की रिपोर्ट

हेट स्पीच से संबंधित कानूनी प्रावधान

भारतीय दंड संहिता की धारा 153A और 153B, दो समूहों के बीच दुश्मनी या नफरत पैदा करने वाले कार्यों को दंडनीय बनाती है. वहीं धारा 295A, जान-बूझकर या दुर्भावनापूर्ण इरादे से लोगों के एक वर्ग की धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाले कार्यों को दंडित करने से संबंधित है. इसके अलावा धारा 505(1) और 505(2), ऐसी सामग्री के प्रकाशन तथा प्रसार (Print and Publicity) को अपराध बनाती जिससे विभिन्न समूहों के बीच द्वेष या घृणा पैदा हो सकती है.

भारतीय दंड संहिता के अलावा जनप्रतिनिधित्व अधिनियम (Representation of People’s Act), 1951 की धारा 8 अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के दुरुपयोग के दोषी व्यक्ति को चुनाव लड़ने से रोकती है. जनप्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 123(3A) और 125, चुनावों में जाति, धर्म, समुदाय, जाति या भाषा के आधार पर दुश्मनी को बढ़ावा देने पर रोक लगाती है.

मौजूदा समय मे हो रहे बड़े बदलावों ओर लगातार बढ़ते हुए हेट स्पीच के मामलों के बीच आईपीसी में बदलाव को लेकर लगातार सुझाव भी दिए जा रहे है, इसी को लेकर दो समितियां भी बनाई गई थी.

ये भी पढ़ें – Election Commission द्वारा 253 राजनीतिक दलों को घोषित किया निष्क्रिय, जानिए भारत में कैसे होता है राजनीतिक पार्टियों का पंजीकरण और क्या है इससे संबंधित कानून

बेजबरुआ समिति, 2014

बेजबरुआ समिति द्वारा आईपीसी की धारा 153C (मानव गरिमा के लिये हानिकारक कृत्यों को बढ़ावा देने या बढ़ावा देने का प्रयास) में संशोधन कर पांच साल की सजा या जुर्माना या दोनों एवं धारा 509A (शब्द, इशारा या कार्य किसी विशेष जाति के सदस्य का अपमान करने का इरादा) में संशोधन कर तीन वर्ष की सजा या जुर्माना या दोनों का प्रस्ताव दिया.

विश्वनाथन समिति, 2019

विश्वनाथन समिति ने धर्म, नस्ल, जाति या समुदाय, लिंग, लैंगिक पहचान, यौन, जन्म स्थान, निवास, भाषा, विकलांगता या जनजाति के आधार पर अपराध करने या उकसाने के लिए आईपीसी में धारा 153 सी (बी) और धारा 505A का प्रस्ताव रखा. समिति द्वारा इन कृत्यों के लिए 5,000 रुपए के जुर्माने के साथ दो वर्ष तक की सजा के प्रावधान का प्रस्ताव रखा.

नवंबर में अगली सुनवाई

हेट स्पीच वाली याचिकाओं पर अगली सुनवाई 23 नवंबर को होगी. न्यायालय ने केंद्र को निर्देश दिया है कि वह ये स्पष्ट करे कि क्या वह हेट स्पीच पर रोक लगाने के लिए विधि आयोग (Law Commission) की सिफारिशों पर कार्रवाई करने का इरादा रखती है या नहीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here