होम देश Ashoka Pillars: जानिए राष्ट्रीय चिन्ह के बदलाव को लेकर क्या कहता है...

Ashoka Pillars: जानिए राष्ट्रीय चिन्ह के बदलाव को लेकर क्या कहता है भारतीय कानून; क्या है अशोक स्तंभ का इतिहास और महत्व?

Ashoka Pillars: 11 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नए संसद भवन में राष्ट्रीय प्रतीक अशोक स्तंभ का अनावरण किया। इसके बाद से ही इस प्रतीक को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल, विपक्ष आरोप लगा रहा है कि अशोक स्तंभ के डिजाइन के साथ छेड़छाड़ किया गया है। विपक्ष का कहना है कि अशोक स्तंभ पर सिंह की मुद्रा शांत और संयमित प्रतीत होती है इसलिए, आक्रामक और क्रोधित होने के लिए नए आसन की आलोचना की जा रही है। हालांकि, मूर्तिकार ने इस दावे को खारिज कर दिया है लेकिन सोशल मीडिया पर लगातार लोग इसकी आलोचना कर रहे हैं।

Ashoka Stambh
Ashoka Pillars

क्या कहता है कानून?

भारत का राष्ट्रीय चिन्ह, भारतीय राष्ट्रीय चिन्ह अधिनियम 2005 (दुरुपयोग की रोकथाम) से संबंधित है। इस अधिनियम में साल 2007 में संशोधन किया गया था। इस एक्ट के अनुसार राष्ट्रीय प्रतीक आधिकारिक मुहर के रूप में उपयोग करने के लिए अनुसूची में वर्णित है। दरअसल, एक्ट में बताया गया है कि भारत का राष्ट्रीय प्रतीक सारनाथ के Lion Capital of Asoka से प्रेरित होकर बनाया गया है। एक्ट के सेक्शन 6(2)(F) में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि सरकार राष्ट्रीय प्रतीकों की डिजाइन में बदलाव कर सकती है।

Constitution of India
Constitution of India

सेक्शन में कहा गया है कि केन्द्र सरकार जरूरत के अनुसार किसी भी चीज में परिवर्तन कर सकती है। इसके लिए उनको पूर्ण शक्ति हासिल है लेकिन साथ ही इस एक्ट में ये भी लिखा गया है कि केन्द्र सरकार डिजाइन में बदलाव कर सकती है लेकिन पूरा राष्ट्रीय चिन्ह नहीं बदल सकती हैं। दरअसल, सरकार किसी भी कानून में जरूरत के अनुसार परिवर्तन करती है वैसे ही राष्ट्रीय चिन्ह में भी परिवर्तन कर सकती है।

Ashoka Pillars

Ashoka Pillars का इतिहास

दरअसल, अशोक स्तंभ का इतिहास काफी दिलचस्प है। यह मौर्य वंश के तीसरे शासक सम्राट अशोक से जुड़ा है। सम्राट अशोक बहुत ही शक्तिशाली शासक थे इन्होंने जितने क्षेत्रों में अपना कब्जा किया था उतने क्षेत्रों में अपना स्तंभ लगाया था। कई जगहों पर अशोक के बनवाए स्तंभ मिले हैं जिनमें शेर की आकृति बनी है। लेकिन सारनाथ और सांची में उनके स्तंभ में शेर शांत दिखते हैं जिसको लेकर लोगों का मानना है कि ये दोनों प्रतीक शासक के बौद्ध धर्म स्वीकार करने के बाद बनवाए गए हैं।

Ashoka Pillars

क्या संदेश देता है Ashoka Pillars

अशोक स्तंभ को 26 अगस्त, 1950 में राष्ट्रीय चिन्ह की उपाधि दी गई है। यह चिन्ह सम्राट अशोक के शांति की नीति को दर्शाता है। इसके चार शेर आत्मविश्वास, शक्ति, साहस और गौरव का प्रतीक है। वहीं इसमें नीचे की तरफ पश्चिमी भाग में बैल, पूर्वी भाग में घोड़ा, दक्षिण में घोड़ा और उत्तर में शेर है। साथ ही बीच में धर्म चक्र है जिसको राष्ट्रीय ध्वज में भी शामिल किया गया है। स्तंभ में नीचे सत्यमेव जयते लिखा गया है जो कि मुंडकोपनिषद का एक सूत्र है, जिसका अर्थ “सत्य की सदैव ही विजय होती है”।

संबंधित खबरें:

Ashoka Stambh: नए संसद भवन की छत पर लगे राष्ट्रीय प्रतीक को लेकर क्यों छिड़ गया है विवाद? यहां पढ़ें इसकी वजह…

पीएम मोदी ने किया नए संसद भवन में अशोक स्तंभ का अनावरण, औवेसी बोले- ये संविधान…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Delhi Liquor Scam को लेकर CBI ने दर्ज की FIR, मनीष सिसोदिया समेत 15 के नाम शामिल

Delhi Liquor Scam: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कथित आबकारी घोटाले पर अपनी प्राथमिकी में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सहित 15 लोगों को आरोपी बनाया है।

जल्द लॉन्च होने जा रहा है Apple iPhone 14, मिलेंगे दमदार फीचर्स, साथ ही वॉच भी होगी खास

Apple iPhone 14: ऐपल की लेटेस्ट आईफोन सीरीज आईफोन 14 को लेकर लोगों को बेसब्री से इंतजार है।

Kailash Vijayvargiya ने दिया विवादित बयान, बोले- “नीतीश कुमार ऐसे पाला बदलते हैं जैसे लड़कियां बॉयफ्रेंड बदलती हैं”

Kailash Vijayvargiya: बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय 25 दिनों बाद अमेरिका से इंदौर लौटे। भारत आते ही वो विवादों में घिर गए।

गोवा देश का पहला ‘हर घर जल’ प्रमाणित राज्य घोषित, जानिए कहां तक पहुंचा हर घर में नल से पानी देने वाला जल जीवन...

गोवा और दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव के सभी गांवों के लोगों ने अपने गांव को 'हर घर जल' के रूप में घोषित किया है.

एपीएन विशेष

00:00:18

Mumbai News: मुंबई में पुलिस ने एक वाहनचालक को बीच सड़क पर मारा थप्पड़

Mumbai News: महाराष्ट्र सरकार में मंत्री जितेंद्र आव्हाड जब कोल्हापुर के दौरे पर थे।
00:51:54

Rajya Sabha Election 2022: राज्यसभा की 57 सीटों पर नजर, एक सीट कई दावेदार; तेज हुआ सियासी घमासान

Rajya Sabha Election 2022: पंद्रह राज्यों में राज्यसभा की 57 सीटों पर 10 जून को होने वाले चुनाव में कांग्रेस को 11 सीटें मिल सकती हैं।
00:22:22

Bihar Caste Census: जातीय जनगणना पर बिहार की सियासत में एक बार फिर मचा बवाल

Bihar Caste Census: जातीय जनगणना पर सियासत एक बार फिर गर्मा रही है और इसका केंद्र है बिहार।
00:02:28

Barabanki: आधुनिक सुलभ शौचालय का होगा निर्माण, डिजाइन है खास

Barabanki: बाराबंकी नगर पालिका परिषद के चेयरमैन पति रंजीत बहादुर श्रीवास्तव नगर में अपनी खुद के डिजाइन का सुलभ शौचालय बनवाने जा रहे हैं।
afp footer code starts here