“अगर PM Modi ऐसा करेंगे तो हम कार्यक्रम में जरूर जाएंगे”, जानिए नई संसद के उद्घाटन पर क्या बोले AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी?

"बहिष्कार तो होना ही था। - असम के सीएम

0
12
Asaduddin Owaisi: नई संसद
Asaduddin Owaisi: नई संसद

Asaduddin Owaisi:पीएम मोदी 28 मई को नई संसद को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। नए संसद भवन के इस उद्घाटन कार्यक्रम में सभी दलों व सांसदों को बुलाया गया है। वहीं कांग्रेस, सपा, आम आदमी पार्टी समते कुल 19 विपक्षी पार्टियों ने इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया है। उनकी मांग है कि देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को नए संसद भवन का उद्घाटन करना चाहिए। इसी बात को लेकर अब देश में सियासी घमासान मचा हुआ है। इस बीच AIMIM प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी का भी बयान आया है। उन्होंने एक बात कही है और कहा है कि अगर पीएम मोदी ऐसा करते हैं तो वे संसद भवन के उद्घाटन कार्यक्रम में जाएंगे।

Asaduddin Owaisi

Asaduddin Owaisi:नए संसद भवन की जरूरत को कोई नहीं कर सकता अस्वीकार- ओवैसी

AIMIM प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने नए संसद भवन को लेकर अपनी बात कही है। उन्होंने कहा,”नए संसद भवन की जरूरत है इसको कोई अस्वीकार नहीं कर सकता लेकिन इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री के द्वारा नहीं होना चाहिए क्योंकि यह शक्ति के पृथक्करण के सिद्धांत के खिलाफ है।”
उन्होंने आगे कहा,”विपक्षी दलों ने हमारी पार्टी से संपर्क नहीं किया है। उद्घाटन लोकसभा स्पीकर(ओम बिड़ला) को करना चाहिए क्योंकि वह संसद के अभिरक्षक हैं।”

ओवैसी ने पीएम मोदी से अपील की है। उन्होंने कहा,”हम प्रधानमंत्री(नरेंद्र मोदी) से अपील करते हैं कि आप पीछे हट जाइए और स्पीकर ओम बिड़ला को उद्घाटन करने दें।”
ओवैसी ने कहा,”अगर प्रधानमंत्री ऐसा करेंगे तो हम कार्यक्रम में जरूर जाएंगे।”

नई संसद के उद्घाटन कार्यक्रम के विपक्ष के बहिष्कार पर क्या बोले असम के सीएम

पीएम मोदी के द्वारा नए संसद भवन के उद्घाटन को लेकर विपक्ष केंद्र सरकार पर हमलावर है। वह इस कार्यक्रम को बहिष्कार करने में लगा हुआ है। वहीं इस बीच असम के सीएम हिमंता बिस्वा सरमा ने भी अपनी बात कही है। उन्होंने कहा,”बहिष्कार तो होना ही था। उन्होंने(विपक्ष) कभी नहीं सोचा था कि भवन का निर्माण इतनी जल्दी पूरा हो जाएगा। सिर्फ अपना चेहरा बचाने के लिए बहिष्कार का नाटक कर रहे हैं।”

वहीं, केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा,”ये विपक्ष की तरफ से एक निराधार बहस उठाने का काम किया जा रहा है। ऐसा भी नहीं है कि इनके शासन काल में इनके प्रधानमंत्रियों के द्वारा ऐसे उद्घाटन नहीं हुए।”

यह भी पढ़ेंः

मिस्टर इंडिया रहे प्रेमराज अरोड़ा की 42 साल की उम्र में हार्ट अटैक से मौत

बिहार की ‘करिश्माई बिटिया’ जो UPSC की परीक्षा में बनी ऑल इंडिया नंबर वन, यहां पढ़ें टॉपर इशिता किशोर की सफलता की कहानी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here