Buras के फूलों की वादियों के बीच पहुंचे चोपता, पर्यावरण के साथ बिताएं कुछ पल

Buras: बर्फ की चोटियों से घिरे चोपता के बुग्याल और मखमली घास के मैदानों पर जाने के लिये बुरांश के जंगल से गुजरना पड़ता है, जोकि बेहद अलग ही एहसास देता है।

0
60
Buras: chopta ki top news
chopta

Buras: हिमालय के पहाड़ों की बात सामने आते ही एक बेहद सुंदर नजारा हम सभी की आंखों के आगे आ जाता है।ऐसे में ही बात अगर मध्‍य हिमालय की सुंदर वादियों और यहां के फूल बुरांस की हो, कहना ही क्‍या।चोपता उत्तराखंड की सबसे खूबसूरत जगहों के रूप में जाना जाता है। चोपता का नजारा ऐसा लगता है कि मानो गढ़वाल हिमालय में किसी ने स्वर्ग का टुकड़ा रख दिया हो।

यहां बर्फ की चोटियों से घिरे चोपता के बुग्याल और मखमली घास के मैदानों पर जाने के लिये बुरांश के जंगल से गुजरना पड़ता है, जोकि बेहद अलग ही एहसास देता है।इन्‍हीं नजारों को देखकर ऐसा लगता है कि पर्यावरण की सुंदर वादियों के बीच कुछ पल बिताना सभी के लिए बेहद खास होता है।

Buras ki top news hindi.
Buras.

Buras: फरवरी के अंत से खिलता है बुरांस

फरवरी के अंत से यहां बुरांस खिलना शुरू होता है और मार्च खत्म होने तक इसे अपने गुलाबी आगोश में ले लेता है।बर्फ से ढकी सफेद चोटियों के साथ गुलाबी बुरांश से लदे पेड़ ऐसे दिखते हैं माने किसी चित्रकार ने दुनिया के सबसे सर्वोत्तम रंगों को कैनवास पर उतार दिया हो।

Buras: भारत का ‘मिनी स्विट्जरलैंड’ कहलाता है चोपता

चोपता उत्‍तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में रुद्रप्रयाग जिले का एक छोटा सा शहर है। चोपता ‘भारत में मिनी स्विट्जरलैंड’ के नाम से भी जाना जाता है। आप गूगल मैप पर देखेंगे तो रुद्रप्रयाग जिले में दो चोपता देखने को मिलेंगे।लेकिन आपको गूगल मैप पर लिखना होगा “चोपता मिनी स्विट्जरलैंड” तभी आप सही चोपता की लोकेशन पर पहुंचेंगे। चोपता समुद्र तल से 8556 फीट की ऊंचाई पर स्थित, एक बहुत खूबसूरत हिल स्टेशन है। चोपता में आपको दुनिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर देखने को मिलेगा यह मंदिर तुंगनाथ के नाम से बहुत प्रसिद्ध है।चोपता सबसे ज्यादा तुंगनाथ और चंद्रशिला ट्रेक के लिए मशहूर है।ट्रेक के दौरान आप पंचचूली, नंदा देवी, केदारनाथ और त्रिशूल की राजसी चोटियों को देख सकते हैं।

संबंधित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here