Union Budget 2023: बेहद संवेदनशील होती है बजट बनाने से लेकर पेश होने की प्रक्रिया, सख्‍त पहरे में रहते हैं कर्मचारी

Union Budget 2023: बजट तैयार होने और इसके संसद पटल पर आ जाने तक कर्मचारी लगातार घरों से 10 दिनों से कटे रहते हैं।जब तक बजट पेश नहीं हो जाता,तब तक इसे तैयार करने की प्रक्रिया से जुड़े लोगों की सुरक्षा चाक-चौबंद रहती है।

0
122
Union Budget 2023: commodities ki news
Union Budget 2023: commodities ki news

Union Budget 2023: आम बजट 2023-24 आने में कुछ ही दिन शेष हैं।ऐसे में वित्‍त मंत्रालय में भी गतिविधियां तेज हो गई हैं।निर्मला सीतारमण बतौर वित्‍त मंत्री के रूप में 1 फरवरी को लगातार 5वां बजट पेश करने जा रहीं हैं।ऐसे में बजट तैयार करने वाले कर्मचारी और अधिकारी करीब 10 दिनों तक यहां कैद रहते हैं।उन्‍हें मंत्रालय से बाहर और घर जाने की अनुमति नहीं है।
दरअसल बजट भारत सरकार का एक बेहद गोपनीय दस्‍तावेज होता है।इसे तैयार करने में मुख्‍य भूमिका वित्‍त मंत्रालय के कर्मचारियों और अधिकारियों की होती है।बजट तैयार होने और इसके संसद पटल पर आ जाने तक कर्मचारी लगातार घरों से 10 दिनों से कटे रहते हैं।जब तक बजट पेश नहीं हो जाता,तब तक इसे तैयार करने की प्रक्रिया से जुड़े लोगों की सुरक्षा चाक-चौबंद रहती है।इस दौरान कोई बाहरी व्यक्ति का वित्‍त मंत्रालय में प्रवेश वर्जित रहता है।यहां तक कि बजट दस्‍तावेज तैयार करने वाली पूरी टीम, इसकी छपाई से जुड़े अधिकारी और कर्मचारियों को बाहर जाने और सहयोगियों से मिलने की मनाही होती है।

Union Budget 2023 ki news
Union Budget 2023 ki news

Union Budget 2023: बेहद सख्‍त रहती है सुरक्षा

Union Budget 2023 ki news
Union Budget 2023 ki news

बजट तैयार करने से लेकर देश के सामने आने तक वित्‍त मंत्रालय में सुरक्षा कड़ी रहती है।यहां तक कि मोबाइल नेटवर्क भी काम नहीं करता।सिर्फ लैंडलाइन फोन ही बात करने का माध्‍यम बनता है।ऐसा करने का मकसद जरूरी सरकारी जानकारी को लीक होने से बचाना होता है।

Union Budget 2023: डॉक्‍टर्स की टीम रहती है तैनात

वित्‍त मंत्रालय में बजट तैयार करने वाले लोगों के स्‍वास्‍थ्‍य को देखने के लिए बाकयदा डॉक्‍टर्स की एक टीम मौजूद रहती है।ताकि उनके बीमार पड़ने पर इलाज किया जा सके।

Union Budget 2023: इंटरनेट पर पाबंदी

बजट तैयार होने के आखिरी 10 दिनों में यहां इंटरनेट के इस्तेमाल पर भी पाबंदी रहती है।जिन कंप्यूटरों पर बजट डॉक्यूमेंट मौजूद होता है, उनसे इंटरनेट और एनआईसी के सर्वर को डिलिंक कर दिया जाता है।

संबंधित खबरें