Pakistan Crisis: आसमान छू रहे चिकन-रोटी के दाम, जानें क्यों हुई पड़ोसी की अर्थव्यवस्था धड़ाम?

महंगाई की मार ऐसी है कि चिकन मांस की कीमत ने नए रिकॉर्ड स्थापित करना शुरू कर दिया है। पोल्ट्री के दाम में लगातार हो रही बढ़ोतरी से लोग परेशान हो गए हैं वहीं सोशल मीडिया पर चल रहा चिकन मीट बहिष्कार अभियान भी बेअसर साबित हुआ है।

0
122
Pakistan Crisis
Pakistan Crisis

Pakistan Crisis: पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था मुश्किल में है। संकट इतना बुरा है कि पड़ोसी देश ने अमेरिका में अपनी दूतावास की संपत्ति को बिक्री के लिए रख दिया है। इतना ही नहीं, ऊर्जा संरक्षण के लिए शॉपिंग मॉल, शादी के हॉल, रेस्तरां और बाजारों को जल्दी बंद करने का निर्देश दिया है। जबकि देश की अर्थव्यवस्था पिछले कुछ वर्षों से अच्छी स्थिति में नहीं है, सकल घरेलू उत्पाद में भी लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। वहीं, वैश्विक मुद्रास्फीति भी एक बड़ा कारण है जिससे पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था का हाल खराब हो गया है।आर्थिक कारणों के अलावा, पाकिस्तान कुछ महीने पहले अभूतपूर्व बाढ़ से भी प्रभावित हुआ। बाढ़ ने बड़े पैमाने पर तबाही मचाई। इससे करीब 33 मिलियन लोग प्ररभावित हुए थे।

आर्थिक जानकारों का मानना है कि पाकिस्तान अपनी जरूरत का लगभग पूरा तेल आयात करता है। जैसे-जैसे वैश्विक स्तर पर मुद्रास्फीति बढ़ी, लगभग सभी केंद्रीय बैंकों ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी करके इसे ठंडा करने की कोशिश की। बदले में, इससे मुद्राओं पर दबाव पड़ा, जो अमेरिकी डॉलर की तुलना में काफी गिर गया। पिछले साल 2022 में, पाकिस्तानी रुपया अमेरिकी डॉलर की तुलना में लगभग 30 प्रतिशत गिर गया। एशिया में सबसे खराब प्रदर्शन वाली मुद्राओं में से एक बन गया था पाकिस्तानी रुपया।

download 2023 01 08T144810.651
देPakistan Crisis

पाकिस्तान की GDP ग्रोथ

अक्टूबर 2022 में, विश्व बैंक ने कहा कि वित्त वर्ष 2023 में पाकिस्तान की आर्थिक वृद्धि लगभग 2 प्रतिशत तक पहुंचने की उम्मीद है। पाकिस्तान ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स के मुताबिक, पाकिस्तान में दिसंबर में रिकॉर्ड 24.5 फीसदी महंगाई देखी गई।

पाकिस्तान पर बाहरी कर्ज

विश्व बैंक ने हाल ही में प्रकाशित अपनी वार्षिक रिपोर्ट में अनुमान लगाया है कि 2021 तक पाकिस्तान का कुल बाहरी लोन 130.433 बिलियन डॉलर था। देश को वित्त वर्ष 2023 तक 33 बिलियन डॉलर का कर्ज चुकाना है। स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के गवर्नर जमील अहमद ने 8 दिसंबर को एक पॉडकास्ट में कहा कि 20 बिलियन डॉलर का हिसाब लगाया गया था लेकिन देश को अभी भी शेष वित्तीय वर्ष के दौरान 13 बिलियन डॉलर का प्रबंधन करने की आवश्यकता थी।

IMF से बेलआउट पैकेज

2019 में, पाकिस्तान ने IMF से 6 बिलियन डॉलर का बेलआउट पैकेज लिया था। पिछले साल अगस्त तक, वैश्विक वित्तीय संस्थान ने 3.9 बिलियन डॉलर की बहुप्रतीक्षित निधि दी थी। 29 अगस्त 2022 को, IMF के कार्यकारी बोर्ड ने सातवीं और आठवीं समीक्षा पूरी की और पाकिस्तान को 1.1 बिलियन डॉलर निकालने की अनुमति दी। अगली किश्त सितंबर में आने की उम्मीद थी लेकिन, इसमें देरी हुई। बता दें कि आईएमएफ इसकी नियमित समीक्षा करता है कि इसका बेलआउट पैसा कैसे खर्च किया जा रहा है। चूकि पैसा अटका हुआ है तो बाजार को फ्लो बरकरार रखने के लिए पाकिस्तान को 1.18 अरब डॉलर की ताजा किश्त की सख्त जरूरत है।

जिंदा मुर्गे की कीमत 420 रुपये प्रति किलो

महंगाई की मार ऐसी है कि चिकन मांस की कीमत ने नए रिकॉर्ड स्थापित करना शुरू कर दिया है। पोल्ट्री के दाम में लगातार हो रही बढ़ोतरी से लोग परेशान हो गए हैं वहीं सोशल मीडिया पर चल रहा चिकन मीट बहिष्कार अभियान भी बेअसर साबित हुआ है। जिंदा मुर्गे की कीमत कई इलाकों में 420 रुपये प्रति किलो है, जबकि कई जगहों पर मुर्गे के मांस की कीमत 630 रुपये प्रति किलो है। थोक में ब्रायलर मुर्गी के अंडे 285 रुपये दर्जन, फुटकर में 300 रुपये दर्जन और घरेलू अंडे 520 रुपये दर्जन बिक रहे हैं।

यह भी पढ़ें: