ईरान के हमले पर बोला इजरायल,” जवाब देने के लिए सही वक्त और तरीका चुनेंगे”

0
17

ईरान द्वारा इजरायल पर ड्रोन और मिसाइल हमलों के बाद इजरायल का कहना है कि वह जवाबी कार्रवाई करने के लिए उचित समय और तरीका चुनेगा। इस बीच संयुक्त राष्ट्र में ईरान ने कहा कि उनका देश इजरायली आक्रामकता के जवाब में अपने “आत्मरक्षा के अंतर्निहित अधिकार” का प्रयोग कर रहा है। ईरान के अनुसार उसने इज़राइल पर हमला दमिश्क में उसके वाणिज्य दूतावास पर इजराइल के हमले के बाद किया है। ईरान का कहना है, “मामले को समाप्त माना जा सकता है। हालांकि, अगर इजरायल ने एक और गलती की तो ईरान की प्रतिक्रिया काफी गंभीर होगी।” वहीं इज़रायल ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से ईरान पर सभी प्रतिबंध लगाने की मांग की है।

इस मामले पर एक आला अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रपति बाइडन ने इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से कहा है कि अमेरिका ईरान के खिलाफ किसी भी जवाबी कार्रवाई के लिए सैन्य समर्थन प्रदान नहीं करेगा। बाइ़डन ने रविवार को कहा कि अमेरिका ने ईरान द्वारा लॉन्च किए गए अधिकांश ड्रोन और मिसाइलों को रोकने में इज़राइल की सहायता की। इसके अतिरिक्त, बाइडन ने ईरान को जवाब देने की रणनीति बनाने के लिए अन्य G7 नेताओं के साथ मिलने के अपने इरादे के बारे में बताया।

इज़राइल की सेना ने घोषणा की कि इज़राइल ने अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और अन्य सहयोगियों के साथ मिलकर ईरान के हमले का जवाब दिया है। वहीं ईरान ने कहा कि हमले से पहले उसने अमेरिका समेत पड़ोसी देशों को अग्रिम सूचना प्रदान की थी।

इस बीच भारत ने कहा कि क्षेत्र में बढ़ते तनाव को “बातचीत और कूटनीति” के जरिए हल किया जाना चाहिए। विदेश मंत्रालय ने कहा, “हम तत्काल तनाव कम करने, संयम बरतने, हिंसा से पीछे हटने और कूटनीति के रास्ते पर लौटने का आह्वान करते हैं। हम स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं। यह महत्वपूर्ण है कि क्षेत्र में सुरक्षा और स्थिरता बनी रहे।”

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने इजरायली समकक्ष के साथ टेलीफोन पर चर्चा की । जयशंकर ने ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, “अभी इजराइल के विदेश मंत्री के साथ बातचीत समाप्त हुई। कल के घटनाक्रम के बारे में हमारी चिंता साझा की। व्यापक क्षेत्रीय स्थिति पर चर्चा की। संपर्क में रहने पर सहमति हुई।” गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से संघर्ष को और अधिक न बढ़ने देने का आग्रह किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here