होम देश Swami Vivekananda Birth Anniversary: स्वामी विवेकानंद ने कहा था, ''अगर मौत भी...

Swami Vivekananda Birth Anniversary: स्वामी विवेकानंद ने कहा था, ”अगर मौत भी आ गई तो…” वो 7 बातें जो बदल देंगी आपका जीवन

Swami Vivekananda Birth Anniversary: स्वामी विवेकानंद की आज 159वीं जयंती है। स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी, 1863 को हुआ था और निधन 4 जुलाई 1902 में हुआ था। स्वामी विवेकानंद ने भारतीय वेद, योग और अध्यात्म को देश-विदेश में पहुंचाया और हिंदू धर्म का पूरी दुनिया में प्रचार-प्रसार किया। स्वामी विवेकानंद ने 128 साल पहले 11 सितंबर 1893 को अमेरिका के शिकागो में विश्व धर्म संसद के मंच से अपना पहला मशहूर भाषण दिया था। इस भाषण का जिक्र होते ही वो किस्सा जरूर याद किया जाता है, जब स्वामी विवेकानंद ने वहां मौजूद श्रोताओं को ‘अमेरिका के भाइयों और बहनों’ कहकर संबोधित किया था।

Swami Vivekananda Birth Anniversary: जब स्‍वामी विवेकानंद ने कहा, अगर मौत भी आ गई तो

 Swami Vivekananda Birth Anniversary
Swami Vivekananda Birth Anniversary

स्वामी विवेकानंद ने अमेरिका की धरती पर खड़े होकर दुनिया को भारतीय अध्यात्म और दर्शन की उस परंपरा से परिचित कराया, जिसमें सभी धर्मों को एक ही ईश्वर तक पहुंचने का रास्ता माना गया है।

39 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाले स्वामी विवेकानंद ने, अपनी ज़िन्दगी की सांध्यबेला में शिलांग में अपने शिष्यों से एक बार कहा था कि – “चलो छोड़ो, अगर मौत भी आ गई तो क्या फ़र्क पड़ता है, जो मैं देकर जा रहा हूँ वो अगले डेढ़ हजार वर्षों तक की खुराक है।”

उनके विचार आज भी प्रासांगिक बने हुए हैं, जो किसी भी व्यक्ति की निराशा को दूर कर सकते हैं और आशा भर सकते हैं।

Swami Vivekananda Birth Anniversary: स्वामी विवेकानंद की कही 7 बातें…

 Swami Vivekananda Birth Anniversary Quotes
Swami Vivekananda Birth Anniversary Quotes
  1. उठो, जागो और तब तक रुको नहीं जब तक कि तुम अपना लक्ष्य प्राप्त नहीं कर लेते।
  2. आप जो भी सोचेंगे, आप वही हो जाएंगे। अगर आप खुद को कमजोर सोचेंगे तो आप कमजोर बन जाएंगे। अगर आप सोचेंगे की आप शक्तिशाली हैं तो आप शक्तिशाली बन जाएंगे।
  3. एक नायक की तरह जिएं। हमेशा कहें मुझे कोई डर नहीं, सबको यही कहें कोई डर नहीं रखो।
  4. अगर आप पौराणिक देवताओं में यकीन करते हैं और खुद पर यकीन नहीं करते हैं तो आपको मुक्ति नहीं मिल सकती है। अपने में विश्वास रखो और इस विश्वास पर खड़े हो जाओ, शक्तिशाली बनो, इसी की हमें जरूरत है।
  5. एक समय में एक काम करो और ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा उसमें डाल दो और बाकी सब कुछ भूल जाओ।
  6. जो भी तुम्हे शारीरिक, बौद्धिक और आध्यात्मिक रूप से कमजोर करे, उसे विष समझ त्याग दो।
  7. तुम्हें कोई पढ़ा नहीं सकता, कोई आध्यात्मिक नहीं बना सकता। तुमको सब कुछ खुद अंदर से सीखना है। आत्मा से अच्छा कोई शिक्षक नही है।

संबंधित खबरें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Allahabad HC: तदर्थ शिक्षकों के रिक्त पदों को पिछले भर्ती विज्ञापन में समाहित करने की याचिका खारिज

तदर्थ शिक्षकों ने भर्ती प्रक्रिया में भाग भी लिया था।जिसमें अधिकतर प्रतिभागी असफल रहे।

Independence Day 2022: PM Modi ने पहनी तिरंगे के रंग की पगड़ी, प्रधानमंत्री के लिबास ने लोगों का ध्यान किया आकर्षित

Independence Day 2022: देश के 76वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने आज लाल किले से ध्वज फहराकर राष्ट्र को संबोधित किया।

आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर देखें Swadesh Conclave 2022 Live…

Swadesh Conclave 2022: दिल्ली के विज्ञान भवन में स्वदेश कॉन्क्लेव एंड अवार्ड्स का भव्य आयोजन किया गया।

76th Independence Day: मंदिर और देवालयों पर कुछ यूं चढ़ा स्‍वतंत्रता का रंग, तिरंगे के रंग में रंगे देवस्‍थान

इसी क्रम में दिल्‍ली के कालकाजी से लेकर झंडेवालान, श्रीराम जन्‍मभूमि से लेकर उज्‍जैन महाकाल तक तिरंगे शान से लहरा रहे हैं।

एपीएन विशेष

00:00:18

Mumbai News: मुंबई में पुलिस ने एक वाहनचालक को बीच सड़क पर मारा थप्पड़

Mumbai News: महाराष्ट्र सरकार में मंत्री जितेंद्र आव्हाड जब कोल्हापुर के दौरे पर थे।
00:51:54

Rajya Sabha Election 2022: राज्यसभा की 57 सीटों पर नजर, एक सीट कई दावेदार; तेज हुआ सियासी घमासान

Rajya Sabha Election 2022: पंद्रह राज्यों में राज्यसभा की 57 सीटों पर 10 जून को होने वाले चुनाव में कांग्रेस को 11 सीटें मिल सकती हैं।
00:22:22

Bihar Caste Census: जातीय जनगणना पर बिहार की सियासत में एक बार फिर मचा बवाल

Bihar Caste Census: जातीय जनगणना पर सियासत एक बार फिर गर्मा रही है और इसका केंद्र है बिहार।
00:02:28

Barabanki: आधुनिक सुलभ शौचालय का होगा निर्माण, डिजाइन है खास

Barabanki: बाराबंकी नगर पालिका परिषद के चेयरमैन पति रंजीत बहादुर श्रीवास्तव नगर में अपनी खुद के डिजाइन का सुलभ शौचालय बनवाने जा रहे हैं।
afp footer code starts here