कांग्रेस अपनी Bharat Jodo Yatra पर अडिग, Rahul Gandhi के साथ बढ़ता जा रहा है कारवां

कांग्रेस पार्टी की भारत जोड़ा यात्रा मीडिया में काफी चर्चा का विषय बनी हुई है। दरअसल, कांग्रेस एक पदयात्रा का आयोजन कर रही है जो 7 सितंबर को कन्याकुमारी से शुरू हो गई है। पार्टी के प्लान के मुताबिक, 150 दिनों में यह यात्रा कश्मीर पहुंच जाएगी।

0
99
Bharat Jodo Yatra
Bharat Jodo Yatra

Bharat Jodo Yatra: कांग्रेस अपनी भारत जोड़ो यात्रा पर अडिग है। लगातार राहुल गांधी इस यात्रा पर आगे बढ़ाते जा रहे हैं। कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा रविवार को 18वें दिन में प्रवेश कर गई। कांग्रेस नेता ने रविवार को केरल के त्रिशूर से यात्रा शुरू की। राहुल गांधी के साथ कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा भी पदयात्रा में शामिल हुए। पैदल मार्च लगभग 6:30 बजे शुरू हुआ, इस दौरान गांधी के साथ सैकड़ों पार्टी कार्यकर्ता पैदल चले। पदयात्रा पहले सेंट फ्रांसिस जेवियर्स फोराने चर्च में सुबह करीब 10 बजे रूकी। इसके बाद शाम करीब 7 बजे कैफे मकानी के सामने वेट्टीकट्टीरी में आज की यात्रा समाप्त हुई।

30 सितंबर को कर्नाटक में प्रवेश करेगी यात्रा

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा 150 दिनों में 3,570 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। यह 7 सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से शुरू हुआ और जम्मू-कश्मीर में समाप्त होगा। 10 सितंबर की शाम को केरल में प्रवेश करने वाली यात्रा 30 सितंबर को कर्नाटक में प्रवेश करने से पहले 19 दिनों में सात जिलों को छूते हुए 450 किलोमीटर की दूरी तय करते हुए राज्य से होकर गुजरेगी।

Bharat Jodo Yatra
Bharat Jodo Yatra

क्या है कांग्रेस की Bharat Jodo Yatra?

कांग्रेस पार्टी की भारत जोड़ा यात्रा मीडिया में काफी चर्चा का विषय बनी हुई है। दरअसल, कांग्रेस एक पदयात्रा का आयोजन कर रही है जो 7 सितंबर को कन्याकुमारी से शुरू हो गई है। पार्टी के प्लान के मुताबिक, 150 दिनों में यह यात्रा कश्मीर पहुंच जाएगी। पदयात्रा के दौरान 12 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों से होकर करीब 3500 किलोमीटर का रास्ता तय किया जाएगा। कांग्रेस ने यात्रा के प्रचार और सफलता के लिए हर संभव उपाय किए हैं और आगे भी करती रहेगी। ऐसा ही एक उपाय नागरिक समाज संगठनों, विशिष्ट नागरिक समाज के सदस्यों, बुद्धिजीवियों, लेखकों और अन्य लोगों को यात्रा में शामिल करना है। इस सिलसिले में 22 अगस्त को दिल्ली में बैठक बुलाई गई थी, जिसमें 150 नागरिक समाज संगठनों ने हिस्सा लिया था।

यह भी पढ़ें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here