होम विदेश समावेशी अफगानिस्तान की मांग के लिए Male Delegations को काबुल भेजने पर...

समावेशी अफगानिस्तान की मांग के लिए Male Delegations को काबुल भेजने पर Taliban की हुई कड़ी आलोचना

Taliban के तहत एक समावेशी अफगानिस्तान (Inclusive Afghanistan) की मांग के लिए सभी पुरुष प्रतिनिधिमंडलों को काबुल भेजने के लिए आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। अगस्त में सत्ता पर कब्जा करने के बाद से तालिबान ने अपनी नई कार्यवाहक सरकार से महिलाओं को बाहर रखा है और काम और शिक्षा पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिसकी दुनियाभर में निंदा हो रही है।

तालिबान द्वारा महिलाओं को बाहर करना असमान्य

अफगानिस्तान स्वतंत्र मानवाधिकार आयोग (Afghanistan Independent Human Rights Commission) के निर्वासित प्रमुख शाहरजाद अकबर (Shahrzad Akbar) ने कहा, “अपनी टीमों में  वरिष्ठ महिलाओं को तालिबान के साथ बातचीत का नेतृत्व करना चाहिए… महिलाओं को बाहर न करें।” “सरकारों और सहायता एजेंसियों” को संबोधित करते हुए एक ट्वीट में उन्होंने कहा, “तालिबान द्वारा महिलाओं के बाहर करना असमान्य है।

ह्यूमन राइट्स वॉच (Human Rights Watch) की हीथर बर्र ने “सॉसेज पार्टी” हैशटैग के तहत काबुल में प्रतिनिधिमंडलों के साथ तालिबान द्वारा अपनी बैठकों की तस्वीरें पोस्ट की। जिसके बारे में बर्र ने एएफपी को बताया, खासकर सहायता संगठनों को उदाहरण पेश करना चाहिए। तालिबान को यह नहीं सोचना चाहिए, केवल पुरुषों की दुनिया जो वे बना रहे हैं … सामान्य है।

विदेशी प्रतिनिधियों के साथ बैठकों में नहीं दिखी एक भी महिला

तालिबान ने सोशल मीडिया पर विदेशी प्रतिनिधियों के समूहों के साथ बंद कमरे में बैठक की दर्जनों तस्वीरें पोस्ट की हैं, जिसमें एक भी महिला नहीं दिख रही है। इस महीने की शुरुआत में ब्रिटेन डेलीगेट्स और तालिबान के अंतरिम उप प्रधानमंत्रियों अब्दुल गनी बरादर (Taliban Interim Deputy Prime Minister Abdul Ghani Baradar) और अब्दुल सलाम हनफ़ी (Abdul Salam Hanafi) के बीच एक भव्य कमरे में कई बैठकों में कोई महिला नहीं थी, एक अधिकारी ने एएफपी को बताया कि यह एक संयोग था कि विशेष दूत और मिशन प्रमुख दोनों पुरुष थे।

इस पर पिछले साल दोहा में तत्कालीन अफगान सरकार और तालिबान के बीच असफल शांति वार्ता में वार्ताकारों में से एक फ़ौज़िया कूफ़ी (Fawzia Koofi) ने इस पर नाराजगी व्यक्त की। “विश्व नेताओं के रूप में जब वे महिलाओं के अधिकारों के बारे में बात करते हैं, तो  उन्हें यह दिखाने की ज़रूरत है कि वे इसमें विश्वास करते हैं।  ना कि यह केवल एक राजनीतिक बयान है।

रेड क्रॉस (Red Cross) की अंतर्राष्ट्रीय समिति, संयुक्त राष्ट्र की बच्चों की एजेंसी और डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स ने बताया कि उन्होंने केवल शीर्ष नेताओं के छोटे प्रतिनिधिमंडल भेजे थे, जो पुरुष थे। इस तरह के उच्च-स्तरीय पदों पर महिलाओं की कमी से पता चलता है कि अपनी टीमों में तालिबान महिलाओं को शामिल नहीं करता, समूह के नेताओं ने कई महिलाओं के साथ मुलाकात की, जिसमें तत्कालीन अफगान सरकार के साथ दोहा वार्ता भी शामिल थी।

दो हत्याओं के प्रयासों से बचीं

कूफी दो हत्याओं के प्रयासों से बच गईं, वो पहले उग्रवादियों के साथ बातचीत में शामिल होने से हिचकिचाती थी, उनके पति को जेल में डाल दिया गया और उनके 1990 में नेल पॉलिश लगाने पर उनके ऊपर पत्थर फेंकने की धमकी दी गई। वो कहती हैं कि इस सब के बाद भी उनके साथ आमने-सामने बैठने से वह “शक्तिशाली” महसूस कर रही थीं। उन्होंने कहा, “मेरे लिए, यह महत्वपूर्ण था कि मैं खुद को और अपना संदेश उन्हें स्पष्ट कर दूं।”

ये भी पढ़ें

Bill Gates की बेटी ने मिस्र के घुड़सवार Nayal Nassar से की शादी, देखें तस्वीरें

Facebook Inc. मेटावर्स बनाने के लिए 10,000 नियुक्तियां करेगा, 50 मिलियन निवेश की योजना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

IPL 2022: Sunrisers Hyderabad ने मुंबई इंडियंस को हराकर बदला प्लेऑफ का गणित, क्या इस जीत से प्लेऑफ में पहुंच पाएगी हैदराबाद

IPL 2022 के 65वें मुकाबले में Sunrisers Hyderabad ने मुंबई इंडियंस को हराकर प्लेऑफ की उम्मीदों को कायम रखा है। हैदराबाद ने इस जीत के साथ प्लेऑफ का पूरा समीकरण ही बदल गया।

Bangladesh ने पहले टेस्ट में बनाई मजबूत पकड़, तमीम इकबाल, मुशफिकुर रहीम और लिटन दास के नाम रहा दिन

Bangladesh और Sri Lanka के बीच खेले जा रहे पहले टेस्ट के तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद बांग्लादेश ने अपनी स्थिति मजबूत कर ली है। मैच का तीसरा दिन तमीम इकबाल, मुशफिकुर रहीम और लिटन दास के नाम रहा।

APN News Live Updates: ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा को हटाया गया, कोर्ट ने रिपोर्ट पेश करने के लिए 2 दिन...

APN News Live Updates: ज्ञानवापी मस्जिद मामले में जानकारी मुताबिक सुनवाई पूरी है गई है। कोर्ट कमिश्नर ने सर्वे रिपोर्ट दायर करने के लिए दो दिन का समय मांगा है कोर्ट इसपर 4 बजे कोर्ट फैसला सुनाएगा।

Bharuch Fire in Chemical Factory: गुजरात के भरूच में केमिकल फैक्ट्री में लगी भयंकर आग, 25 से अधिक कर्मचारी घायल

Bharuch Fire in Chemical Factory: गुजरात के भरूच के दहेज इंडस्ट्रियल एरिया में एक रसायन फैक्ट्री में भयंकर आग लग गयी है।

एपीएन विशेष

00:03:24

Gyanvapi Masjid Survey: ज्ञानवापी सर्वे मामले पर बनारस कोर्ट ने कही अहम बातें

Gyanvapi Masjid Survey: ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले में बनारस कोर्ट ने आदेश देते हुए कहा है कि जिस जगह शिवलिंग मिला है, उस स्थान को सील किया जाए।
00:19:52

CM Ashok Gehlot: राजस्थान के CM अशोक गहलोत ने कहा- बीजेपी ध्रुवीकरण की राजनीति करके वोट लेती है

CM Ashok Gehlot: कांग्रेस के उदयपुर चिंतन बैठक के बाद राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने भाजपा और आरएसएस पर बड़ा आरोप लगाया है।
00:05:08

PM Modi In Nepal: लुम्बिनी में जनता को पीएम मोदी ने किया संबोधित

PM Modi In Nepal: बुद्ध पूर्णिमा के पावन अवसर पर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भगवान बुद्ध के जन्मस्थल लुम्बिनी पहुंचे हुए हैं।
00:02:45

Rampur: कद काठी मे छोटे होने के बावजूद शादी के बंधन में बंधे युवक और युवती

Rampur: शादी ब्याह भी किस्मत से होते हैं और जिस जीवनसाथी की तलाश वयस्क होने के बाद युवक और युवती की होती है, वह कभी-कभी दूर नहीं पास ही में मिल जाता है और कभी कभी सात समंदर पार भी मिलते हैं।
afp footer code starts here