Punjab National Bank: लापरवाही की हदें पार; कानपुर के बैंक में बक्से में रखे-रखे गल गए 42 लाख नोट

आरोप है कि इसमें उन चारों से 10-10 लाख का पर्सनल लोन लेकर 42 लाख की कमी को पूरा करने को कहा गया था। लेकिन इन अफसरों ने यह कहकर मना कर दिया कि उनकी कोई गलती नहीं। इसके बाद अफसरों का निलंबन कर दिया गया

0
58
Punjab National Bank: लापरवाही की हदें पार; कानपुर के बैंक में बक्से में रखे-रखे गल गए 42 लाख के नोट
Punjab National Bank: लापरवाही की हदें पार; कानपुर के बैंक में बक्से में रखे-रखे गल गए 42 लाख के नोट

Punjab National Bank: बैंक में लोग अपना पैसा सुरक्षित रखने के लिए जमा करते हैं। लेकिन, खुद बैंक अपने यहां रखे नोटों को कितना सुरक्षित रखती है, इसका नजारा उत्तर प्रदेश के कानपुर में देखने को मिला है। कानपुर में पंजाब नेशनल बैंक की पांडु नगर शाखा की करेंसी चेस्ट में रखे 42 लाख रुपये के नोट पानी में गल गए। इसके बाद बैंक के अधिकारियों ने इस मामले की भनक तक किसी को लगने नहीं दी। लेकिन, जुलाई महीने में आरबीआई ने जब करेंसी चेस्ट का ऑडिट किया गया तो मामले का खुलासा हुआ।

Punjab National Bank: आखिर कैसे गल गए नोट?

दरअसल, 3 महीने पहले पंजाब नेशनल बैंक की तिजोरी में जगह नहीं थी। कैश ज्यादा होने की वजह से नोटों को बक्सों में ही भरकर रख दिया गया था। इधर, बारिश में बेसमेंट की दीवार में सीलन होने से बक्से में पानी चला गया था। इन नोटों को एक बक्से में जमा करके रखा गया था। इसी दौरान किसी वजह से बक्से में पानी चला गया। बैंककर्मियों ने बक्से में ऊपर के नोट देखे, लेकिन नीचे की ओर रखे नोटों को नहीं खंगाला।

MONEY
Punjab National Bank: आखिर कैसे गल गए नोट?

Punjab National Bank: कैसे हुआ खुलासा?

इसी दौरान रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की टीम निरीक्षण को आई। जांच शुरू की तो यह मामला ऊपर अधिकारियों तक भेजा गया। जिसके लिए फिर एक और टीम आई। आरबीआई के अफसरों ने 25 जुलाई से 29 जुलाई 2022 तक शाखा की करेंसी चेस्ट का निरीक्षण किया था। इसके बाद उन्होंने 14,74,500 रुपये कम होने तथा अधिकतम और न्यूनतम रकम में 10 लाख का अंतर होने की रिपोर्ट दी थी। साथ ही, 10 रुपये के 79 बंडल और 20 रुपये के 49 बंडल खराब होने की जानकारी भी दी थी।

इस जांच के बाद पीएनबी की विजिलेंस टीम ने भी जांच शुरू की गई। ऑडिट में यह रकम इतनी बड़ी नहीं थी। मिली जानकारी के अनुसार, इसके बाद हफ्तों भर में नोटों की गिनती कराई गई। इसमें पता चला कि 42 लाख रुपये के नोट गल गए हैं। इस मामले में वरिष्ठ प्रबंधक करेंसी चेस्ट देवी शंकर सहित चार अफसरों को सस्पेंड कर दिया गया है। वे तबादला होकर 25 जुलाई को ही आए थे जबकि चेस्ट में रुपये के गलने की घटना इसके पहले की है।

rbi 1
RBI की टीम निरीक्षण के लिए आई

सूत्रों के अनुसार, इसके अलावा तीन अन्य अफसर भी सस्पेंड किए गए। इनमें से भी दो ने इसी साल जून और जुलाई में बैंक में चार्ज संभाला था। इनमें छह जून 2022 को रिपोर्ट करने वाले प्रबंधक करेंसी चेस्ट आशा राम और जून 2022 में करेंसी चेस्ट जवाहर नगर, उन्नाव से स्थानांतरित होकर आए वरिष्ठ प्रबंधक भास्कर कुमार शामिल हैं।

Punjab National Bank: कार्रवाई नहीं करने का आरोप

आरोप है कि इसमें उन चारों से 10-10 लाख का पर्सनल लोन लेकर 42 लाख की कमी को पूरा करने को कहा गया था। लेकिन इन अफसरों ने यह कहकर मना कर दिया कि उनकी कोई गलती नहीं। इसके बाद अफसरों का निलंबन कर दिया गया। उन्होंने मामले की आरबीआई या सरकारी जांच एजेंसी से जांच कराए जाने की मांग की है। घटना का संज्ञान लेकर सभी चेस्टों की जांच की जानी चाहिए।

RBI

Punjab National Bank: क्लीन करेंसी पर क्यों उठे रहे हैं सवाल?

दरअसल, यदि नोट खराब होते हैं तो आरबीआई के नियमों के मुताबिक उन्हें नष्ट किया जाता है और नई करेंसी जारी की जाती है। इस मामले में हर नियम की अनदेखी की गई। नोटों के बक्सों को जमीन पर रखा गया। क्षमता से ज्यादा नोटों के बक्से रखे गए। नोट गलने से यह संकेत मिलते हैं कि चेस्ट में नोटों की नियमित गिनती नहीं होती है।

संबंधित खबरें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here