अभी जेल में ही रहेंगे Satyendar Jain, मनी लॉन्ड्रिंग केस में कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका

हाल ही में तिहाड़ जेल में बंद ठग सुकेश चंद्रशेखर ने दिल्ली एल-जी वीके सक्सेना को एक पत्र लिखा था, जिसमें दावा किया गया था कि सत्येंद्र जैन ने जेल में अपनी सुरक्षा के बदले 2019 में 10 करोड़ रुपये की उगाही की थी।

0
37
Satyendar Jain
Satyendar Jain

Satyendar Jain: दिल्ली की एक अदालत ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आम आदमी पार्टी के नेता सत्येंद्र जैन की जमानत याचिका खारिज कर दी है। मामले के दो सह आरोपियों वैभव जैन और अंकुश जैन की जमानत अर्जी भी राउज एवेन्यू कोर्ट ने खारिज कर दी थी। उन्हें 30 मई को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया था। मंत्री पर कथित तौर पर उनसे जुड़ी चार कंपनियों के जरिए धन शोधन करने का आरोप है।

पूनावाला ने साधा निशाना

समाचार एजेंसी पीटीआई ने बताया कि जैन ने अदालत से जमानत देने का आग्रह करते हुए कहा था कि उन्हें अब और हिरासत में रखने से कोई उद्देश्य पूरा नहीं होगा। घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए, भाजपा प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने आप पर निशाना साधा और कहा, “आप लुटेरों की पार्टी है। क्या केजरीवाल अब सत्येंद्र को बर्खास्त करेंगे?”

Satyendar Jain
Satyendar Jain

2017 में की गई प्राथमिकी के आधार पर हुई थी गिरफतारी

ED ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत 2017 में जैन के खिलाफ दर्ज सीबीआई की प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आरोपी को गिरफ्तार किया था। चार्जशीट में कहा गया है कि सत्येंद्र जैन ने 14 फरवरी से 31 मई, 2017 की अवधि के दौरान दिल्ली की आप सरकार में मंत्री रहते हुए अपनी आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति अर्जित की थी। ईडी ने सत्येंद्र जैन और अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता और भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) द्वारा दर्ज प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग जांच शुरू की।

हाल ही में तिहाड़ जेल में बंद ठग सुकेश चंद्रशेखर ने दिल्ली एल-जी वीके सक्सेना को एक पत्र लिखा था, जिसमें दावा किया गया था कि सत्येंद्र जैन ने जेल में अपनी सुरक्षा के बदले 2019 में 10 करोड़ रुपये की उगाही की थी। उन्होंने जेल से एक प्रेस विज्ञप्ति भी जारी की जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि उन्होंने राज्यसभा सीट के लिए आप को 50 करोड़ रुपये दिए।

यह भी पढ़ें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here