होम लाइफस्टाइल पीने का पानी इन बर्तनों में रखें, दूर होती हैं अशुद्धियां

पीने का पानी इन बर्तनों में रखें, दूर होती हैं अशुद्धियां

आयुर्वेद (Ayurveda) में ये माना जाता है कि भोजन की तरह ही पानी को भी पचाना पड़ता है, ऐसे में शुद्ध पानी (Pure Water) पीना जरूरी है। शुद्ध पानी पीने से अधिकतम स्वास्थ्य लाभ होता है। आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ रेखा राधामणि (Ayurvedic doctor Dr. Rekha Radhamani) के अनुसार, जिस कंटेनर में पीने का पानी जमा होता है और उसका आकार बहुत महत्वपूर्ण होता है। डॉ राधामणि ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में कहा है कि पीने के पानी के लिए सबसे अच्छे बर्तन मिट्टी के बर्तन और तांबे के बर्तन हैं।

मिट्टी के पात्र

मिट्टी के पात्र पीने के पानी को घंटों तक ताजा और ठंडा रखते हैं, साथ ही ये एसिडिटी और त्वचा की समस्याओं को भी दूर करते हैं और जीवन शक्ति में सुधार होता है।

तांबे के बर्तन

तांबे के बर्तन पाचनशक्ति को बढ़ाता है और पानी के दोषों को संतुलित करता है, हालांकि तांबे के बर्तनों के अत्यधिक इश्तेमाल के भी दुष्प्रभाव हैं। यह बैक्टीरियां को मारता है और रक्तस्राव से संबंधित विकार हो तो इसका इश्तेमाल न करें। तांबे के बर्तन में खाना न पकाएं या गर्म दूध या गर्म तरल पदार्थ न रखें।  6 से 8 घंटे अगर इसमें पानी को स्टोर कर के छोड़ दिया जाए तो पानी शुद्ध हो जाता है, एनीमिया, किडनी और कोलेस्ट्रोल  जैसी बीमारियों में इसमें रखें पानी पीने से राहत मिलता है।

ये भी पढ़ें

Corona को रोकने के लिए Monoclonal Antibody उपचार की बढ़ी डिमांड, जानें इसके बारे में

Newborn Baby को दूथ पिलाने का सही तरीका, Expert से जानिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Supreme Court: रोड रेज मामले में सिद्धू को बड़ा झटका, SC ने एक साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई

रोड रेज का ये मामला 1988 का है।मालूम हो कि नवजोत सिंह सिद्धू को पहले इस मामले में राहत मिल गई थी. लेकिन रोड रेज
00:25:14

NATO: फिनलैंड-स्वीडन NATO में होंगे शामिल, रूस की टेंशन और ज्यादा बढ़ी

NATO: नाटो में शामिल होने को लेकर रूस फ‍िनलैंड को पहले ही आगाह कर चुका है।

Krishna Janambhumi Case: श्रीकृष्ण जन्मभूमि-शाही ईदगाह विवाद पर निचली अदालत का बड़ा फैसला, केस को सुनवाई योग्य माना

Krishna Janambhumi Case: श्रीकृष्ण जन्मभूमि-शाही ईदगाह विवाद मामले मथुरा सिविल कोर्ट का बड़ा फैसला सामने आया है। मथुरा के डिस्ट्रिक्ट एंड सेशन जज राजीव भारती ने अपने फैसले में श्रीकृष्ण जन्मभूमि-शाही ईदगाह विवाद मामले को सुनवाई योग्य माना।इस मामले में कृष्ण भक्त होने का दावा करने वाली वकील रंजना अग्निहोत्री समेत 6 याचिकाकर्ता हैं। इन्होंने वर्ष 2020 में शाही ईदगाह की जमीन पर मालिकाना हक का दावा करते हुए याचिका दाखिल की थी।

Monkeypox: ब्रिटेन के बाद अमेरिका में मिला मंकीपॉक्स वायरस से संक्रमित मरीज, अलर्ट पर स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी

दुनिया अभी कोरोना महामारी से लड़ ही रहा है कि इसी बीच Monkeypox नाम का एक नया वायरस सामने आ गया है।

एपीएन विशेष

00:25:14

NATO: फिनलैंड-स्वीडन NATO में होंगे शामिल, रूस की टेंशन और ज्यादा बढ़ी

NATO: नाटो में शामिल होने को लेकर रूस फ‍िनलैंड को पहले ही आगाह कर चुका है।
00:04:45

Spirulina Farming: शुरू करें स्पिरुलिना की खेती, मेहनत है कम, मुनाफा है ज्‍यादा

Spirulina Farming: शैवाल यानी स्पिरुलिना (Spirulina) एक जलीय वनस्पति है, जो औषधीय गुणों से भरपूर है।
00:02:53

Azam Khan Hearing: आजम खान के वकील का यूपी सरकार पर आरोप, राजनीतिक द्वेष के चलते ले रहे बदला

Azam Khan Hearing: आजम खान पर सर्वोच्च अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया है।
00:03:24

Gyanvapi Masjid Survey: ज्ञानवापी सर्वे मामले पर बनारस कोर्ट ने कही अहम बातें

Gyanvapi Masjid Survey: ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले में बनारस कोर्ट ने आदेश देते हुए कहा है कि जिस जगह शिवलिंग मिला है, उस स्थान को सील किया जाए।
afp footer code starts here