होम देश प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए बेहतरीन है Employee Pension Scheme, जानिए...

प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए बेहतरीन है Employee Pension Scheme, जानिए यहां विस्तार से

Employee Pension Scheme गैर सरकारी क्षेत्र में नौकरी करने वालों के लिए एक बढ़िया बचत योजना है। इस योजना में न केवल टैक्स से छूट मिलती है बल्कि इसका अच्छा रिटर्न भी मिलता है और रिटायरमेंट के बाद ये किसी भी कर्मचारी के लिए बड़ा सहारा होता है।

Employee Pension Scheme को रिटायरमेंट फंड इसलिए कहा जाता है कि क्योंकि नौकरी के दौरान कर्मचारी की तनख्वाह से कुछ हिस्सा लेकर Provident Fund (पीएफ) में जमा किया जाता है। वहीं साथ में कुछ हिस्सा पेंशन फंड (Employee Pension Scheme) में जमा होता है।

पेंशन की रकम तय फार्मूले से मिलती है

कर्मचारियों को 58 की उम्र में पीएफ की पूरी रकम एकमुश्त मिलती है। लेकिन पेंशन की रकम को मंथली बेसिस पर तय किया जाता है। जिसके लिए एक तय फॉर्मूला होता है।

Employee Provident Fund (ईपीएफ) की तरह Employee Pension Scheme (ईपीएस) भी कर्मचारी की सैलरी का हिस्सा है। ईपीएस में हर महीने पेंशन के तौर पर न्यूनतम 1,000 रुपए से लेकर 7,500 रुपए तक मिलते हैं। वैसे अधिकांशतः लोगों को यह मालूम नहीं होता कि आखिर कर्मचारी पेंशन योजना का कैलकुलेशन कैसे किया जाता है।

पीएफ खाते में कर्माचारी और नियोक्ता की बराबर सहभागिता होती है

पीएफ खाते में कर्मचारी की बेसिक सैलरी का 12 फीसदी जमा होता है और नियोक्ता का भी 12 फीसदी का योगदान होता है। लेकिन, नियोक्ता के अंशदान में से एक हिस्सा ईपीएस यानि पेंशन फंड में जमा होता है। ईपीएस में बेसिक सैलरी का 8.33% का योगदान होता है। हालांकि, पेंशन योग्य सैलरी की अधिकतम सीमा 15 हजार रुपए है। ऐसे में पेंशन फंड में हर महीने अधिकतम 1250 रुपए ही जमा हो सकते हैं।

वर्तमान नियमों के मुताबिक, अगर किसी कर्मचारी की बेसिक सैलरी 15,000 रुपए या उससे अधिक है तो पेंशन फंड में 1250 रुपए जमा होंगे। अगर बेसिक सैलरी 10 हजार रुपए है तो पेंशन में योगदान 833 रुपए ही होगा। कर्मचारी के सेवानिवृति पर पेंशन की गणना भी अधिकतम सैलरी 15 हजार रुपए (ईपीएस का उच्चतम स्तर) ही मानी जाती है। ऐसे में रिटायरमेंट के बाद ईपीएस रूल के तहत कर्मचारी को 7,500 रुपए बतौर पेंशन मिल सकता है।

कैसे होती है ईपीएस की गणना

ईपीएस गणना का फॉर्मूला इस प्रकार है- महीने की पेंशन = (पेंशन योग्य सैलरी x EPS खाते में जितने साल कंट्रीब्यूशन रहा)/70। मान लीजिए अगर किसी कर्मचारी की मंथली सैलरी (आखिरी 5 साल की सैलरी का औसत) 15 हजार रुपए है और नौकरी की अवधि 30 साल है तो उसे सेवानिवृति के बाद हर महीने 6,828 रुपए की पेंशन मिलेगी।

सर्विस हिस्ट्री के दौरान एंप्लॉई पेंशन स्कीम (Employee Pension scheme) के तहत जमा होने वाली पूरी राशि सरकार के पास जमा होती है। इसका फायदा सीधे रिटायरमेंट पर ही मिलता है।

लिमिट हटी तो कितनी मिलेगी पेंशन?

मान लें कि 15 हजार की लिमिट हट जाती है और आपकी सैलरी 30 हजार है तो आपको फॉर्मूले के हिसाब से जो पेंशन मिलेगी वो यह होगी। (30,000 X 30)/70 = 12,857

ईपीएस के लिए क्या हैं शर्तें

1. कर्मचारी भविष्य नीधि फंड (ईपीएफ) का सदस्य होना जरूरी है

2. कम से कम रेगुलर 10 साल तक नौकरी में रहना जरूरी है

3. 58 साल के होने पर मिलती है पेंशन।

4. 50 साल के बाद और 58 की उम्र से पहले भी पेंशन लेने का विकल्प मिलता है

5. पहले पेंशन लेने पर घटी हुई पेंशन मिलेगी। इसके लिए कर्मचारी को फॉर्म 10D भरना होगा।

6. कर्मचारी की मौत होने पर पेंशन परिवार को मिलती है।

7. सर्विस हिस्ट्री 10 साल से कम है तो 58 साल की आयु में पेंशन अमाउंट निकालने का ऑप्शन मिलेगा।

अपना ईपीएस राशि कैसे जानें

1. कर्मचारी भविष्य नीधि फंड के सदस्य अपनी कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस) खाते में जमा राशि ईपीएफ पास-बुक द्वारा जान सकते हैं।

2. पासबुक का अंतिम कॉलम, हर महीने नियोक्ता/कंपनी द्वारा जमा किए गए ईपीएस योगदान को दर्शाता है।

3. ईपीएस पासबुक पोर्टल पर यूएएन और पासवर्ड का उपयोग करके अकॉउंट ओपन करने के बाद पासबुक डाउनलोड की जा सकती है।

ईपीएफ पेंशन के बारे में याद रखने के लिए महत्वपूर्ण बिंदू

1. कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस) खाते में किए गए सभी योगदान नियोक्ता/ कंपनी द्वारा ही किए जाने चाहिए।

2. ईपीएस के लिए नियोक्ता/ कंपनी कर्मचारी के वेतन का 33% का योगदान देता है।

3. नियोक्ता/कंपनी को हर महीने के आखिरी 15 दिनों के भीतर अपना योगदान देना होता है।

4. सभी लागू योगदान की लागत नियोक्ता/ कंपनी द्वारा वहन की जाती है।

5. नियोक्ता/कंपनी को उसके लिए काम करने वाले सभी कर्मचारियों के लिए सीधे या एक ठेकेदार के माध्यम से योगदान करना पड़ता है।

6. पेंशन के फायदे प्राप्त करने के लिए योग्य न्यूनतम सेवा अवधि 10 वर्ष है।

7. यदि आपने 6 महीने की सेवा से अधिक और 10 वर्ष से कम सेवा की है, तो आप दो महीने से अधिक समय तक बेरोज़गार रहने पर अपनी ईपीएस राशि निकाल सकते हैं।

8. योजना के अनुसार, कर्मचारी की रिटायर्मेंट की आयु 58 वर्ष तय की गई है।

इसे भी पढ़ें: एक छोटी सी Savings बुढ़ापे में देगी बड़ी राहत, जानिए यहां 6 Pension Schemes के बारे में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Infosys के CEO Salil Parekh को मिलती है इतनी सैलरी, जानकर दंग रह जाएंगे आप

Salil Parekh: इंफोसिस लिमिटेड के CEO सलिल पारेख की सैलरी को 88 फीसदी बढ़ाकर 79.75 करोड़ प्रति वर्ष कर दिया गया है। कंपनी ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में इसका खुलासा किया है।

APN News Live Updates: “सेक्स वर्कर भी सुरक्षा और सम्मान के हकदार” Supreme Court ने पुलिस को दिए अहम निर्देश, पढ़ें 26 मई की...

Supreme Court ने गुरुवार को एक अहम आदेश में पुलिस से कहा कि सेक्स वर्कर के खिलाफ न तो उन्हें दखल देना चाहिए...

IPL 2022: Rajat Patidar ने एलिमिनेटर में शतक लगाकर बदली आरसीबी की किस्मत, पिता ने कहा- खेल के प्रति हमेशा से रहा है समर्पित...

आईपीएल मेगा ऑक्शन में रजत पर कोई टीम ने बोली नहीं लगाई थी। लवनीत सिसोदिया के चोटिल होने के बाद आरसीबी ने रजत पाटीदार को 20 लाख के बेस प्राइस में टीम में शामिल किया।

Mumbai News: मामा को भांजी से हुआ प्यार तो की सारी हदें पार, अब सलाखों के पीछे

Mumbai News: मुम्बई के कांदिवली से मामा भांजी के रिश्ते को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है।

एपीएन विशेष

00:03:47
00:01:26

UP News: नाबालिग का पहले कराया धर्म परिवर्तन, फिर पढ़वाया निकाह, घरवालों ने बजरंगदल के साथ मिलकर किया हंगामा

UP News: कानपुर के काकादेव थाना क्षेत्र में एक परिवार ने 16 वर्षीय बेटे का बहला फुसलाकर धर्मांतरण कराने का आरोप लगाया है।

West Bengal: पश्चिम बंगाल के बैरकपुर से BJP सांसद अर्जुन सिंह ने थामा TMC का दामन

West Bengal: पश्चिम बंगाल के बैरकपुर से बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह ने फिर से टीएमसी का दामन थाम लिया है। तीन साल बाद अर्जुन सिंह ने घर वापसी की है।
00:22:22

Bihar Caste Census: जातीय जनगणना पर बिहार की सियासत में एक बार फिर मचा बवाल

Bihar Caste Census: जातीय जनगणना पर सियासत एक बार फिर गर्मा रही है और इसका केंद्र है बिहार।
afp footer code starts here