होम अपराध सुप्रीम कोर्ट ने रेपिस्ट पादरी और रेप सर्वाइवर की शादी के फैसले...

सुप्रीम कोर्ट ने रेपिस्ट पादरी और रेप सर्वाइवर की शादी के फैसले को किया नामंज़ूर

जस्टिस विनीत सरन और जस्टिस दिनेश माहेश्वरी की पीठ ने केरल के कोट्टियूर बलात्कार मामले की पीड़िता के पूर्व पादरी रॉबिन वडक्कमचेरी से शादी करने की पेशकश की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया है।
पीड़िता 2016 में वायनाड जिले के चर्च के एक स्कूल में पढ़ती थी। उसी स्कूल में आरोपी पादरी भी काम करते थे। अब 56 वर्षीय पुजारी, नाबालिग से बलात्कार और एक बच्चे के ‘पिता’ बनने के आरोपी पाए जाने के बाद 20 साल की सजा काट रहे हैं।

जालंधर के बिशप फ़्रेंको मुलक्कल के ख़िलाफ अभियान का नेतृत्व करने वाले फादर ऑगस्टीन वॉटोली ने बताया कि “सुप्रीम कोर्ट ने इस आदेश से कानून पर हमारा भरोसा बढ़ाया है। यह चर्च के भीतर उन सभी लोगों के लिए एक झटका है जो महसूस करते हैं कि अगर इस तरह की गतिविधियों को उजागर किया जाता है तो चर्च की बदनामी होगी। दरअसल होता इससे उलट है.”

रेप सर्वाइवर अब बालिग हैं और उन्होंने पूर्व पुजारी रॉबिन वडक्कुमचेरी की याचिका के बाद अदालत में एक आवेदन दिया था। उन्होंने अपनी अर्जी में पुजारी से शादी करने की मांग की थी ताकि बच्चे के स्कूल में दाखिले की अर्जी में पिता का नाम लिखा जा सके.

उन्होंने सजा को स्थगित करने की भी मांग की थी ताकि वह उससे शादी कर सके. नारीवादी धर्मशास्त्री कोचुरानी अब्राहम ने अपनी पहली प्रतिक्रिया देते हुए बताया कि, “भगवान का शुक्र है, सुप्रीम कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया है, अगर इसपर विचार किया जाता तो एक गलत मिसाल कायम होती.”
मामला कैसे आया सामने
16 वर्षीय सर्वाइवर, सेंट सेबेस्टियन चर्च से जुड़े कोट्टियूर आईजेएम हायर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ती थीं। उनका परिवार इसी चर्च का सदस्य था। वह चर्च में कंप्यूटर में डेटा एंट्री करने में भी मदद करती थीं। मई 2016 में चर्च के तत्कालीन विकर, रॉबिन वडक्कुमचेरी ने उसके साथ बलात्कार किया।

रॉबिन वडक्कुमचेरी की धमकियों वजह से लड़की ने पुलिस को ये तक कह दिया था कि उसका रेप, उसके पिता ने ही किया है। वडक्कुमचेरी के बारे में कन्नूर में चाइल्डलाइन पर आई एक गुमनाम कॉल से पता चला था।

चाइल्डलाइन के नोडल अधिकारी अमलजीत थॉमस ने बताया कि, “हमें एक गुमनाम कॉल आई थी और हमने जांच की। जांच से पता चला कि लड़की ने कहा था कि उसके साथ, उसके रिश्तेदार ने और बाद में उसके अपने पिता ने बलात्कार किया था। बयान में कुछ विसंगतियां थीं। इसलिए, हमने पुलिस को गुमनाम कॉल के बारे में सूचित किया।”

थॉमस ने कहा कि परिवार गरीब था और उनके वडक्कुमचेरी के साथ अच्छे रिश्ते थे। बाद में किए गए एक DNA परीक्षण ने पुष्टि की कि बच्चा तत्कालीन विकार रॉबिन वडक्कमचेरी का ही था। केरल उच्च न्यायालय ने पोक्सो कोर्ट के विशेष सत्र न्यायाधीश पीएन विनोद के फैसले को बरकरार रखा। सम कोर्ट ने सोमवार को केरल हाई कोर्ट के आदेश को बरकरार रखा।

ये भी पढ़ें-गोरखपुर विश्वविद्यालय में परीक्षा देने आई छात्रा का दुपट्टे से लटकता मिला शव, विभागाध्यक्ष समेत कर्मचारियों पर हत्या का आरोप

केरल हाई कोर्ट के जस्टिस सुनील थॉमस ने पीड़िता से शादी करने के बदले सजा को निलंबित करने के रॉबिन वडक्कमचेरी के आवेदन पर विचार करने से इनकार कर दिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को केरल हाई कोर्ट के आदेश को बरकरार रखा। हाई कोर्ट के जस्टिस सुनील थॉमस ने रॉबिन वडक्कमचेरी की सर्वाइवर से शादी करने के बदले सजा संस्पेंड करने की अर्जी पर विचार करने से इनकार कर दिया था।
जब रॉबिन ने ये याचिका केरल हाई कोर्ट में दाखिल की थी तब संध्या राजू ने मुंबई की संस्था मजलिस, पुणे की स्त्रीवाणी, काउंसलर कविता और मुंबई की एक्टिविस्ट ब्रिनेल डिसूजा की ओर से हाई कोर्ट में मुकदमा लड़ा था।

संध्या राजू बताती हैं, “यह एक साफ संकेत है कि परिवार पर उसके और चर्च के अनुरोध को स्वीकार करने का दबाव है। इस पूरे मामले में जैसी धमकियों का इस्तेमाल हुआ है, वो अकल्पनीय हैं। लड़की को अपने पिता को दोषी ठहराने के लिए मजबूर किया गया, बच्चे को भी गोद लेने का प्रयास किया गया।” दूसरी ओर चर्च ने स्पष्ट कर दिया कि यह एक व्यक्तिगत मामला था। केरल कैथोलिक बिशप काउंसिल के प्रवक्ता फादर जैकब पलाकप्पिल्ली ने बताया कि चर्च ने उनके खिलाफ पहले ही अनुशासनात्मक कार्रवाई की है।

ये भी पढ़ें- मेरठ: तीन दरिंदों ने नाबालिग को बनाया हवस का शिकार, तांत्रिक के रुप में किया बलात्कार

फ़ादर जैकब ने कहा, “यह विशुद्ध रूप से उनका व्यक्तिगत मामला है चर्च का मामला नहीं है। भारत में कैथोलिक चर्च अपने किसी भी सदस्य के किसी भी अपराध का स्वीकार या समर्थन नहीं करता है। ऐसा अपराध करने वालों को देश के कानूनी कार्यवाही का सामना करना चाहिए. चर्च का इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है।”
उनके अनुसार, “विवाह कोई समाधान नहीं हो सकता। शादी के लिए व्यस्क होना जरूरी है। चर्च के लोगों को इस तरह के यौन शोषण में लिप्त लोगों के ख़िलाफ़ तत्काल कार्रवाई शुरू करनी चाहिए। चर्च को ऐसे पुजारियों का तबादला करने की वजाय, उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई करनी चाहिए।”

अब्राहम कहती हैं, “मैं जो कह रही हूं वह सभी धर्मों के पुजारियों पर लागू होना चाहिए। अगर कार्रवाई न हो तो उनके नैतिक नेतृत्व पर सवाल उठना लाजमी है और चर्च को इसे ढंकना बंद कर देना चाहिए।”

बिशप फ़्रेंको मुलक्कल के ख़िलाफ़ अभियान का नेतृत्व करने वालेफ़ादर ऑगस्टीन का यह भी मानना ​​है कि ‘एक बार अपराध हो जाए तो व्यक्ति को सज़ा मिलनी चाहिए.’ बिशप फ़्रेंको मुलक्कल के ख़िलाफ़ कार्रवाई शुरू करने के अभियान के दौरान भी उनका यही रुख़ था. बिशप मुलक्कल पर कई वर्षों से एक नन के साथ बलात्कार करने का अभियोग चल रहा है।

फादर ऑगस्टीन ने कहा, “अगर व्यक्ति को दंडित किया जाता है तो चर्च की विश्वसनीयता बढ़ेगी। अगर सजा न मिले तो समझो नैतिक पतन हो रहा है। यह मानवता, ईसा मसीह और चर्च के खिलाफ अपराध है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Allahabad HC:प्रस्तावित राम वन गमन मार्ग को संशोधित करने की मांग में याचिका दाखिल, कोर्ट ने की खारिज

कोर्ट ने कहा सरकार ने निर्माण योजना तैयार करने से पहले रिसर्च किया होगा।

Cannes 2022: कांस के दूसरे दिन इन अभिनेत्रियों ने लगाई रेड कार्पेट पर आग, लुक देख मदहोश हुए फैंस

Cannes 2022: ’75वें कांस फिल्म फेस्टिवल’ की चर्चा पूरे विश्व में है। इस इवेंट में एक से बढ़कर एक अभिनेत्रियां अपना अपना जलवा बिखेरती नजर आई हैं।

Supreme Court: रोड रेज मामले में सिद्धू को बड़ा झटका, SC ने एक साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई

रोड रेज का ये मामला 1988 का है।मालूम हो कि नवजोत सिंह सिद्धू को पहले इस मामले में राहत मिल गई थी. लेकिन रोड रेज
00:25:14

NATO: फिनलैंड-स्वीडन NATO में होंगे शामिल, रूस की टेंशन और ज्यादा बढ़ी

NATO: नाटो में शामिल होने को लेकर रूस फ‍िनलैंड को पहले ही आगाह कर चुका है।

एपीएन विशेष

00:25:14

NATO: फिनलैंड-स्वीडन NATO में होंगे शामिल, रूस की टेंशन और ज्यादा बढ़ी

NATO: नाटो में शामिल होने को लेकर रूस फ‍िनलैंड को पहले ही आगाह कर चुका है।
00:04:45

Spirulina Farming: शुरू करें स्पिरुलिना की खेती, मेहनत है कम, मुनाफा है ज्‍यादा

Spirulina Farming: शैवाल यानी स्पिरुलिना (Spirulina) एक जलीय वनस्पति है, जो औषधीय गुणों से भरपूर है।
00:02:53

Azam Khan Hearing: आजम खान के वकील का यूपी सरकार पर आरोप, राजनीतिक द्वेष के चलते ले रहे बदला

Azam Khan Hearing: आजम खान पर सर्वोच्च अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया है।
00:03:24

Gyanvapi Masjid Survey: ज्ञानवापी सर्वे मामले पर बनारस कोर्ट ने कही अहम बातें

Gyanvapi Masjid Survey: ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले में बनारस कोर्ट ने आदेश देते हुए कहा है कि जिस जगह शिवलिंग मिला है, उस स्थान को सील किया जाए।
afp footer code starts here